कश्मीर मुद्दे में वीटो है बड़ा बाधक : पाकिस्तान


संयुक्त राष्ट्र। पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर मुद्दे को उठाते हुए कहा है कि वीटो के इस्तेमाल के कारण लंबे समय से चल रहे विवाद का समाधान नहीं हो सका और मामले में संयुक्त राष्ट्र प्रस्ताव को लागू करने में बाधा आई है। संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान की राजदूत मलीहा लोधी ने नौ मार्च को सुरक्षा परिषद सुधार को लेकर अंतर सरकारी समझौता विषय पर कहा कि सुरक्षा परिषद में वीटो के इस्तेमाल से कश्मीर का लंबे समय से चल रहे विवाद पर प्रस्ताव रूक गया और इस मुददे पर संयुक्त राष्ट्र प्रस्ताव को लागू करने में बाधा आई। संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तानी दूतावास की तरफ से जारी विज्ञाqप्त में यह जानकारी दी गई है। संयुक्त राष्ट्र रिकॉर्ड के मुताबिक सुरक्षा परिषद के एक स्थाई सदस्य रूस ने १९६२ में आयरलैंड के एक प्रस्ताव पर वीटो लगा दिया था जिसमें भारत और पाकिस्तान से आग्रह किया गया था कि कश्मीर विवाद के समाधान के लिए समझौता करें। लोदी ने वीटो पर पाकिस्तान के रूख को दोहराते हुए कहा कि वह परिषद में वीटो के साथ या वीटो के बगैर किसी नए सदस्य को शामिल करने के खिलाफ हैं। विज्ञाqप्त में कहा गया है कि उनका मानना है कि नीति निर्णय में विशेषाधिकार के साथ भूमिका सुरक्षा परिषद को ज्यादा लोकतांत्रिक, प्रतिनिधित्व और जवाबदेह बनाने के खिलाफ है।