एयर एशिया हादसा: सह-पायलट उड़ा रहा था विमान


जकार्ता। इंडोनेशिया की राष्ट्रीय परिवहन सुरक्षा समिति ने बताया कि इंडोनेशिया के जावा समुद्र में गत माह दुर्घटनाग्रस्त होने वाले विमान को सह पायलट उड़ा रहा था। एनटीएससी के प्रमुख खोजकर्ता मारजोनो सिस्वोसुवार्नो ने कहा कि जावा समुद्र से निकाले गए विमान के मलबे के निचले हिस्से से प्राप्त फलाइट डाटा रिकॉर्डर से स्पष्ट तस्वीर मिली है कि क्यूजेड८५०१ के अंतिम क्षणों में क्या हुआ था लेकिन उन्होंने इसकी जानकारी देने से इंकार कर दिया।
मारजोनो ने कहा कि सह पायलट जोकि सामान्यत: कॉकपिट की दार्इं तरफ बैठता है। उस समय वह ही विमान उड़ा रहा था। जबकि बाएं तरफ बैठने वाला वैâप्टन पायलट निगरानी कर रहा था। उन्होंने बताया कि कॉकपिट वॉयस और फलाइट डाटा रिकॉर्डर से पता चला है कि दुर्घटनाग्रस्त होने से पहले विमान उचित ऊंचाई पर उड़ रहा था। उड़ान भरने पर विमान अच्छी ाqस्थति में था और व्रूâ सदस्यों के पास वैध लाइसेंस और चिकित्सा प्रमाण पत्र था।
उन्होंने कहा कि अंतिम रिपोर्ट आने में कम से कम ६-७ महीने का समय लगेगा। इससे पहले इंडोनेशिया ने कहा था कि विमान अत्यधिक ऊंचाई पर चला गया था। गौरतलब है कि २८ दिसंबर को हुई दुर्घटना में विमान में सवार सभी १६२ लोग मारे गए थे जबकि कई देशों के मिलेजुले प्रयासों से जारी खोज अभियान में अभी तक केवल ७० शव ही बरामद किए जा सके हैं।