आधी आबादी पर मंडरा रहा है नजरें कमजोर होने का खतरा


मेलबर्न। आने वाले तीन दशकों में दुनिया की आधी आबादी दृाqष्टदोष का शिकार हो जाएगी। ताजा अध्ययन के मुताबिक २०५० तक पांच अरब लोग आंखों की समस्या से ग्रस्त होंगे। मौजूदा प्रवृत्ति जारी रहने पर हर पांच में एक के दृाqष्टहीन होने का भी खतरा है। ऑस्ट्रेलिया और िंसगापुर के वैज्ञानिकों के साझा शोध में यह बात सामने आई है। इस शोध में भारतीय मूल के एक शोधकर्ता भी शामिल हैं। वर्ष २००० से २०५० के बीच निकट दृाqष्टदोष के चलते स्थायी दृाqष्टहीनता में सात गुना की वृद्धि की आशंका है। इसमें दूर की वस्तु स्पष्ट नहीं दिखती। लोगों की जीवनशैली और पर्यावरण में आमूलचूल बदलाव के चलते निकट दृाqष्टदोष के मामलों में वृद्धि होगी। इसके अलावा वंâप्यूटर और स्मार्टफोन के ज्यादा इस्तेमाल का भी नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। प्रोपेâसर कोविन नायडू ने बताया, इस समस्या को कम करने के लिए बच्चों के आंखों की नियमित जांच जरूरी है। इससे समय रहते ही जरूरी कदम उठाए जा सकेगा।