आईएस के खिलाफ सेना की बजाय हवाई हमला करने ट्रप ने दिया सुझाव


वांशिगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप का सुझाव है कि आईएस से सैनिकों की बजाय हवाई हमलों से निपटा जा सकता है। ट्रंप रिपब्लिकन पार्टी की तरफ से चुनाव में दावेदारी कर रहे हैं। वे अपने बयानों को लेकर अक्सर विवादों में भी आते हैं।
जानकारी के अनुसान डोनाल्ड ट्रंप ने आईएस से लड़ने के लिए अमेरिका के हजारों थलसैनिकों को भेजे जाने की संभावना को खारिज कर दिया है। लेकिन उन्होंने इस आतंकी संगठन को हराने के लिए वायु सेना शक्ति के इस्तेमाल को समर्थन दिया है। ट्रंप ने यह भी कहा है कि अमेरिका को नाटो में अपनी भागीदारी पर दोबारा विचार करने की जरूरत है। ट्रंप ने कहा सेना ने मुझे बताया कि हमें २०-३० हजार सैनिकों की जरूरत है। मैं २० हजार सैनिकों तैनात नहीं करूंगा। मैं निाश्चत तौर पर उन्हें वायु सैनिक शक्ति और वायु मार्ग से समर्थन और वायु सैनिक सहयोग दूंगा। ट्रंप ने कहा, `हमने कम से कम इराक में ही दो खरब डॉलर खर्च कर दिए हैं। हम पाश्चम एश्यिा में खरबों डॉलर खर्च कर रहे हैं। आप जानते हैं कि इस समय हम कहां हैं? हम उस ाqस्थति से भी पीछे चले गए हैं, जहां हम १५ साल पहले थे। हम इतनी बुरी ाqस्थति में हैं। पश्चिम एशिया हमारे लिए आपदा है।’ उन्होंने यह भी कहा कि अमेरिका को नाटो में अपनी भागीदारी के बारे में दोबारा सोचने की जरूरत है।