आईएस की मदद करने पर युवती को 4 साल की जेल


डेनवर । इराक और सीरिया में सक्रिय आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट के उग्रवादियों की मदद करने सीरिया जाने की कोशिश करने वाली एक युवती को चार साल की सजा दी गई है। शैन्नोन कॉन्ली (१९) को डेनवर की संघीय अदालत ने शुक्रवार को उसके माता पिता की मौजूदगी में यह सजा सुनाई।
वैâदियों की वर्दी के साथ इस युवती ने सर पर काले रंग का स्कार्पâ पहना हुआ था। मामले की सुनवाई के दौरान उसने न्यायाधीश को रोते हुए बताया कि उसने जिहाद छोड़ दिया है और उसे कुरान की गलत व्याख्या कर प्रभावित किया गया था। इसके पहले शैन्नोन ने सितंबर में आईएस को सामग्री मुहैया कराने की साजिश के एक आरोप को स्वीकार कर लिया था। साथ ही यह भी कहा था कि वह इसी तरह की मंशा रखने वाले अन्य अमेरिकियों के बारे में भी सूचनाएं देगी जिनके बारे में उसे जानकारी हो सकती है। एफबीआई एजेंटों ने कहा कि शैन्नोन उस प्रेमी से शादी करना चाहती थी जो उससे ऑनलाइन मिला था। उसने उसे बताया था कि वह चरमपंथियों के साथ लड़ता है। शैन्नोन ने उससे कहा कि वह उसके साथ लड़ना चाहती है या एक नर्स के रूप में उनकी मदद करने की इच्छा रखती है।