आईएसआईएस से लोहा ले रही महिला फाइटर्स


ईराक । दुनिया के लिए सिरदर्द प्रतिबंधित संगठन आईएसआईएस से लोहा लेने में महिलाएं भी पीछे नहीं हैं। इस कारण दुनिया को संदेश देने के मकसद से जंग में उतरी महिला फाइटर्स इसे जड़ से खत्म करना चाहती है।
जानकारी के अनुसार इस्लामिक स्टेट (आईएसआई) से जंग में भले ही लिपिाqस्टक का इस्तेमाल हथियार के तौर पर न हो लेकिन यहां आईएसआई से लोहा ले रही महिला लड़ाकों के लिए यह बेहद जरूरी है। इन महिला फाइटर्स की इच्छा है कि वह जंग में मर भी जाएं तब भी वह सुंदर दिखती रहें। र्कुिदश महिला फाइटर (३६) का कहना है कि वह सुबह एके४७ उठाने से पहले मेकअप करती हैं। क्योंकि वह हमेशा सुंदर दिखना चाहती है। यहां तक की अगर वह मर भी जाएं तब भी सुंदर दिखती रहे। महिला फाइटर्स ने बताया है कि कानून की पढ़ाई छोड़कर सेना में शामिल होने तक उसने अभी तक किसी भी आतंकी को नहीं मारा, लेकिन मौका मिला जरूर मारेंगी।
महिला फाइटर का कहना है कि वह आई.एस. से लड़ना बहुत मुाqश्कल है। वह बहुत ही खतरनाक लोग हैं। हम उन्हें मारना चाहते हैं क्योंकि वह हमें मारना चाहते हैं। वहीं महिला लड़ाकों की कमांडर ने अपने सिपाहियों की तारीफ करते नहीं थकतीं। उनके अनुसार, महिला फाइटरों के पास लड़ने की हर तकनीक है और वह सब तरह के हथियार चलाने में माहिर हैं। आई.एस. के आतंकी महिला लड़ाकों से ज्यादा खौफ खाते हैं। क्योंकि वह महिलाओं के हाथों नहीं मरना चाहते। ऐसा कहा जाता है कि महिलाओं के हाथों मरने से जन्नत नहीं मिलती।