अमेरिकी कमांडो ने खींची थी लादेन की तस्वीर


वािंशगटन। अल कायदा सरगना ओसामा बिल लादेन को मारने के बाद अमेरिकी सील कमांडो ने बिना सरकार की अनुमति के उसकी तस्वीरें ली थीं। लादेन की मौत के इतने साल बाद यह सवाल इसलिए उठ रहा है क्योंकि क्योंकि सील कमांडो के एक अधिकारी पर बिना सरकार की जानकारी के लादेन की तस्वीर को अपने पास रखने और लादेन के जुड़ी खूफिया जानकारी सार्वजनिक करने का आरोप लगा है। अमेरिकी समाचार रिपोर्ट के मुताबिक २०११ में पाकिस्तान के एबटाबाद में ओसामा बिन लादेन को मारने के लिए भेजे गए अमेरिकी सील कमांडो दस्ते में से एक अधिकारी मैथ्यू बिसोनेट पर बिन लादेन की उस समय की तस्वीर और उससे जुड़ी जानकारी सार्वजनिक करने का आरोप लगा है। अमेरिकी जांच अधिकारियों ने मैथ्यू के पास से एक हार्ड ड्राइव बरामद की है जिसमे लादेन को मारने के बाद की तस्वीर मिलने की खबर है। आपको बता दें कि अमेरिकी सरकार ने सांप्रदायिक तनाव की आशंका की वजह से कभी भी ओसामा बिन लादेन के मृत शरीर की तस्वीर को जारी नहीं किया। यही वजह रही कि अमेरिका ने ओसामा के मृत शरीर के अंतिम संस्कार को लेकर भी यही बयान दिया कि उसका शरीर समुंद्र मे बहा दिया गया। अमेरिकी सरकार ने अधिकारियों के सामने भी ये शर्त रखी थी कि वो इन तस्वीरों का गैरकानूनी तरीके से सार्वजनिक तौर पर इस्तेमाल नहीं करेंगे। वहीं अब मैथ्यू बिसोनेट पर अपनी किताब ‘नो इजी डे’ के जरिए लादेन से जुड़ी कई अहम जानकारियों को सार्वजनिक करने का आरोप लगा है।