अमेरिका से 100 ड्रोन की खरीददारी करेगा भारत


-पाक और चीन पर रखेगा नजर
वािंशगटन। पाकिस्तान और चीन पर हथियारबंद और निगरानी रखने के लिए अमेरिका से करीब १०० प्रीडेटर निगरानी ड्रोन की संभावित खरीद पर भारत बात कर रहा है। इस सौदे में दो अरब डॉलर के खर्च की संभावना लगाई जा रही है। चीन और पाकिस्तान को ध्यान में रखते हुए इससे भारत के हथियारों का भंडार बढ़ेगा। अमेरिकी रक्षा मंत्री एस्टन कार्टर के अगले हफ्ते भारत यात्रा के दौरान दोनों पक्षों के बीच वार्ता में इस मुद्दे का जिक्र होने की संभावना है। औद्योगिक सूत्रों के मुताबिक भारत दो अरब डॉलर में करीब १०० ड्रोन की उम्मीद कर रहा है। अमेरिकी सरकार ने पिछले साल भारत को प्रीडेटर एक्सपी बेचने के लिए जनरल ऐटॉमिक्स के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। हालांकि अभी यह साफ नहीं है कि ड्रोन की आर्पूित कब की जाएगी। नौसेना इन्हें िंहद महासागर की निगरानी करने के लिए खरीदना चाहती है। गौरतलब है कि प्रीडेटर ड्रोन लगातार ३५ घंटे तक आकाश में चक्कर लगा सकते हैं। इन्हें इस लिहाज से भी जरूरी माना जा रहा है कि चीन िंहद महासागर क्षेत्र में लगातार जहाजों और पनडुाqब्बयों की मौजूदगी बढ़ा रहा है। देश में चीनी सेना के बार-बार घुसपैठ के मद्देनजर भारत इन मानवरहित विमानों के जरिये अपने हथियारोें की ताकत को और मजबूत करना चाहता है।