विदेश में हैं तो क्या हुआ, हाईटेक पिचकारी से अपनों को कीजिए रंगों से सराबोर


(PC : newsed.in)

वाराणसी के इंजिनियरिंग छात्रों का कमाल

नई दिल्ली (ईएमएस)। अगर आप विदेश में हैं और होली पर घर आने की छुट्टी नहीं मिल रही है, तो निराश होने की जरूरत नहीं है। उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले में स्थित अशोका इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी के छात्रों द्वारा बनाई गई हाईटेक पिचकारी से लोग घर बैठे आपके ऊपर रंग डाल सकेंगे। इतना ही नहीं, यह पिचकारी न केवल आपको केमिकल रंगों से बचाएगी, बल्कि पर्यावरण की दृष्टि से भी सुरक्षित है। माना जाता है कि यह पिचकारी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विदेश नीति को पंख लगाएगी और उनके द्वारा चलाए गए पर्यावरण अभियान को गति देगी। इस हाईटेक पिचकारी को बनाने वाली बीटेक छात्रा अनामिका विश्वकर्मा और जतिन मेहरोत्रा ने बताया कि महज 15 दिन में बनने वाली इस पिचकारी में कई खूबियां हैं। यह पिचकारी न केवल मोबाइल से संचालित की जा सकती है, बल्कि रिमोट की सहायता से भी इससे 200 मीटर दूर बैठे व्यक्ति पर हर्बल रंग चढ़ाया जा सकेगा।

छात्रों ने कहा इस पिचकारी की खूबी यह है कि इसमें रासायनिक रंगों का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा। स्वास्थ्य की दृष्टि से निर्मित पिचकारी में पर्यावरण की सुरक्षा का भी ख्याल रखा गया है। इसकी सबसे बड़ी खूबी यह है कि आप बाहर रहते हुए भी अपने पेड़-पौधों को इसके माध्यम से सींच सकते हैं। जिस प्रकार से खिलौनों को रिमोट से संचालित किया जाता है, ठीक उसी प्रकार इस पिचकारी को भी रिमोट के माध्यम से 200 मीटिर की सीमा में संचालित किया जा सकता है। रिमोट कंट्रोल में दो बटन हैं। एक दबाने पर पिचकारी हरा रंग फेंकती है जबकि दूसरा बटन दबाने पर लाल रंग निकलता है।

इस पिचकारी को इंटरनेट से संचालित करने के लिए ऐंड्रॉइड मोबाइल से कनेक्ट करने के बाद वॉट्सऐप से मैसेज कमांड भेजनी होगी। इसमें आरएफ सेंसर लगा होने की वजह से वाइब्रेट होगा। इसके बाद नोटिफेकिशन आएगा। फिर सेंसर से पिचकारी ऑन होकर रंग फेंकेगी। इसमें जिसके साथ होली खेलनी है, उसके पास पिचकारी होनी जरूरी है, जिसे इंटरनेट से कंट्रोल किया जा सकेगा। दिव्यांग भी रिमोट और फोन के माध्यम से होली खेल सकते हैं। यह केमिकल से एलर्जी वाले व्यक्तियों के लिए भी उपयोगी है। रिमोट कंट्रोल को बनाने में 300 से 400 रुपए के बीच खर्च आएगा। इसके अलावा इंटरनेट कंट्रोल बनाने में 800 रुपए लगेंगे। इसमें 9 वोल्ट की बैट्री और इलेक्ट्रिक पम्प आरएफ सेंसर और रिमोट का प्रयोग किया गया है।