ट्रंप की सुरक्षा में तैनात टीम में लंगूर क्या कर रहे हैं!?


प्रतिकात्मक तस्वीर। (Image | Hillpost.in)

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपनी पत्नी और पूरे लाव-लश्कर के साथ 24 फरवरी को आगरा स्थित विश्व प्रसिद्ध ताजमहल का दीदार करने पहुंचने वाले हैं। इस दौरान ट्रंप की सुरक्षा व्यववस्था में कोई कसर नहीं रखी जा रही ।

डोनाल्ड ट्रंप की सुरक्षा की मुख्य जिम्मेदारी जहां अमेरिकी सिक्रेट सर्विस की ही रहेगी, वहीं सुरक्षा के बाहरी घेरे में एनएसजी और यूपी पुलिस के दस्ते तैनात रहेंगे। सुरक्षा ऐसी किलेनूमा होगी कि परिंदा भी पर न मार सके। लेकिन जैसा कि सभी जानते हैं, ताजमहल और उसके आसपास के इलाकों में बंदरों का बड़ा आंतक है। इसी समस्या के हल स्वरुप सुरक्षा एजेंसियों ने पांच लंगूरों को ट्रंप के रूट पर तैनात करने का निर्णय लिया है। गौरतलब है कि लंगूरों से बंदर दूर भागते हैं। शायद इसी लिये ये नुस्खा अपनाया जा रहा है।

देश में कई जगहों पर बंदरों की समस्या के निवारण और उन्हें भगाने के लिये लंगूरों की सेवा ली जाती है। इसके लिये बाकायदा लंगूर पालने वालों से संपर्क किया जाता है और वे प्रोफेशनली अपनी सेवाएं देते हैं। ऐसे ही एक सज्जन भी इस प्रकार बंदर भगाने का काम करते हैं। वे कहते हैं कि उनके नंबर इंटरनेट पर उपलब्ध हैं और लोग इनकी सेवाएं लेते भी हैं।

वैसे भी विदेशी सैलानी जब भारत घूमने आते हैं तो उन्हें इस प्रकार के अनुभवों से गुजरना पड़ता है। आगरा में बंदरों का कहर कैसा है, यह इस वीडियो से साफ झलकता है।

जहां तक आगरा में सुरक्षा इंतजामों का संबंध है, हवाई अड्डे से लेकर ताजमहल परिसर पर जहां अर्धसैनिक बल, पीएसी, एटीएस और एनएसजी की टीमें तैनात रहेंगी, वहीं अमेरिकी टीम सेटेलाईट से चप्पे-चप्पे पर नजर रखेगी। जहां-जहां से ट्रंप का काफिला गुजरेगा उस इलाके के मोबाईल स्वतः बंद हो जायेंगे। केवल पुलिस और सीयूजी फोन्स चालू रहेंगे क्योंकि उनकी फ्रिकवेन्सी अमेरिकी सुरक्षा एजेंसियों के साथ शेयर कर दी गई है।