चोर-चोर मौसेरे भाई नहीं, अब तो ससुर-दामाद होते हैं!


(PC : Pixabay.com)

ठाणे (ईएमएस) आप में से कई लोगों ने गोविंदा, कादर खान और रवीना टंड़न की फिल्म अंखियों से गोली मारे देखी होगी। मूवी में कादर चोर बाजार का किंग होता है,और वहां अपनी बेटी रवीना की शादी उस लड़के के साथ करना चहता है जो उससे भी बड़ा चोर हो। ये कहानी तो फिल्मी है, लेकिन असल जिंदगी में भी ये किरदार सामने आया जब ठाणे की वालीव पुलिस ने कोटेश शमल गायकवाड़ को पकड़ा। इस मामले में तो वो कहावत भी उलट गई है जिसमें कहा जाता था कि चोर-चोर मौसेरे भाई। यहां तो चोर-चोर दामाद-ससुर हो गये!

चोर पिता ने की अपनी बेटी की शादी उससे भी बड़े चोर से!

कोटेश ने पूछताछ में बताया कि उसने फिल्म की कहानी को असल जिंदगी मे उतारकर अपनी बेटी की शादी उस चोर से की जो उससे भी शातिर बताया जाता हैं। ससुर और दामाद की मुलाकात जेल मे हुई थी और कोटेश को अपने दामाद के बारे में पूरी जानकारी हो गई उसने अपनी बेटी की शादी कर दी।

बताया जा रहा है कि इसके बाद सुसर और दामाद ने मिलकर पूरे राज्य भर में कई चोरियों के अंजाम दिया है। पुलिस ने कोटेश के साथ ही दो सगे भाईयो रतन गुंजाल और सुनिल नारायण गुंजाल को भी पकड़ा है। पुलिस की पूछताछ में ये बात सामने आई कि ये गैंग पहले बैंक में आने-जाने वाले लोगों की रेंकी करती जब कोई बैंक से पैसा निकाल कर जाता ये उसके पीछे करने में लग जाते थे। जैसे ही वहां आदमी थोड़ी दूर पर पहुंचाता ये उस आदमी से कहते कि उसकी गाड़ी से आयल गिरा है या फिर कुछ और बहाना बना दिया करते थे। जिससे वहां आदमी गाड़ी को रोक लेता था। जैसे ही गाड़ी रूकी ये उस पर धावा बोलकर पैसे लेकर फरार हो जाते।

वालीव पुलिस के सीनियर इंस्पेक्टर विलास चौगुले ने बताया कि एक दर्जन मामले तो उसने पुलिस स्टेशन मे ही दर्ज हैबाकी पूरे राज्य के मिलाकर कई सारे मामले हो सकते है।