3000 टन नहीं, सिर्फ 160 किलो सोना ही है सोनभद्र की पहाड़ियों में!


(PC : https://www.chaitanyabharatnews.com/)

यूपी का सोनभद्र जिला इन दिनों में सुर्खियों में है। इसका कारण है यहां पर कथित रूप से मिला अरबों रूपये का सोने का भंडार बताया जा रहा है। मीडिया में इस बाबत बड़े-बड़े दावे किये जा  रहे हैं कि भू-वैज्ञानिकों ने यहां सोने के दो भंडार का पता लगाया है। साथ में ये भी कहा जा रहा है कि इस सोने के भंडार की सुरक्षा इस क्षेत्र में पाए जाने वाले दुनिया के सबसे जहरीले सांप जैसे रसेल वाईपर, करैत और कोबरा कर रहे हैं।

वैसे यह बात सच है कि सोनभद्र जिले के जुगल थाना क्षेत्र की सोन पहाड़ी के अलावा दक्षिणांचल के दुद्दी तहसील के महोली विंठमगंज चोपन ब्लॉक में बड़ी संख्या में जहरीले सांप पाये जाते हैं। क्षेत्र के डीएफओ वाईल्ड लाईप संजीव कुमार ने कहा है कि जब वन विभाग से एनओसी लेने की प्रक्रिया शुरु की जायेगी तब हम पता लगायेंगे कि इस क्षेत्र में ऐसे कितने जहरीले सांप हैं। पहले यहां रसेल वाईपर, कोबरा और कनैत प्रजाति के सांप मिला करते थे।

जहां तक सोने के भंडार का संबंध है जियोलोजिक सर्वे ऑफ इंडिया (जीएसआई) ने अपने बयान में इस प्रकार के दावे से अपने आप को अलग कर लिया है। जीएसआई की ओर से कहा गया है कि क्षेत्र में सोने के भंडार की खोज के लिये भूतकाल में अभियान चलाये गये थे लेकिन प्रोत्साहक नतीजे नहीं मिले। मीडिया में खबरें हैं कि सोनभद्र की पहाड़ियों में 3 हजार टन यानि अरबों का सोने का भंडार पड़ा है और इसकी खुदाई के लिये सरकार ने प्रयास तेज कर दिये हैं।

विभाग ने अपने बयान में कहा है कि क्षेत्र में पाए जाने वाले मिनलर सामान्य ग्रेड का है यानि 3.03 ग्राम प्रति टन सोना पाया जाता है। यहां 52 हजार टन मिनरल में से केवल 160 किलो सोना ही निकल सकता है, न कि 3 हजार टन जैसा कि मीडिया में खबरों में कहा जा रहा है।

(PC : Twitter)