पहली बार भारतीय सेना ने किया माउंट मकालू फतह


इंडियन आर्मी के पर्वतारोहण दल ने सफलतापूर्वक मकालू चोटी फतह कर ली है।
Photo/Twitter

नई दिल्ली। इंडियन आर्मी के पर्वतारोहण दल ने सफलतापूर्वक मकालू चोटी फतह कर ली है। यह अभियान दल चोटी पर पहुंचा। हालांकि तबीयत खराब होने की वजह से टीम लीडर मेजर मनोज जोशी चोटी पर नहीं पहुंच सके। इंडियन आर्मी की इस पर्वतारोही टीम ने अपने इस अभियान के दौरान रहस्यमयी हिममानव ‘येति के पैरों के निशान देखने का दावा किया था, जिसके बाद इसकी चर्चा पूरी दुनिया में होने लगी। मकालू दुनिया की पांचवीं सबसे ऊंची चोटी है। यह टीम गुरुवार को चोटी पर पहुंची और उम्मीद है कि शुक्रवार को यह टीम वापस अडवांस बेस कैंप पहुंच जाएगी। इंडियन आर्मी के अभियान दल के साथ नेपाल आर्मी के लाइजन ऑफिसर भी हैं जिन्होंने पुष्टि की कि इंडियन आर्मी का यह दल सफलतापूर्वक चोटी पर पहुंचा।

इंडियन आर्मी का यह पहला पर्वतारोही दल है जिसने यह चोटी फतह की है। इस पर्वतारोही दल में इंडियन आर्मी के 5 अधिकारी, 2 जेसीओ और 11 जवान शामिल हैं। 8,485 मीटर ऊंची इस माउंट मकालू चोटी के लिए पहले इंडियन आर्मी पर्वतारोहण अभियान को 26 मार्च को इंडियन आर्मी के डीजी मिलिट्री ट्रेनिंग ने झंडा दिखाकर रवाना किया। इंडियन आर्मी ने 8,000 मीटर से ऊंची सभी चुनौतीपूर्ण चोटियों को चढऩे के मकसद से इस अभियान को शुरू किया। माउंट मकालू को सबसे खतरनाक चोटियों में से एक माना जाता है और मौसम की मार और कपकपाने वाली ठंड की वजह से इसे फतह करना चुनौतीपूर्ण माना जाता है। यह चोटी पर्वतारोहियों की तकनीकी सूझबूझ, मानसिक और शारीरिक साहस और संकल्प की परीक्षा लेती है। इंडियन आर्मी की टीम को इस अभियान के लिए 6 महीनों का कड़ा प्रशिक्षण दिया गया था।

– ईएमएस