facebook पर विज्ञापन देखना ज्यादा भाता है


नई दिल्ली । एक हालिया शोध से पता चला है कि सोशल नेटवा\कग साइट पेâसबुक पर दिखने वाले विज्ञापनों से लोग टेलीविजन पर दिखाए जाने वाले विज्ञापनों की तुलना में बेहतर तौर पर ब्रैंड से जुड़े पाते हैं। एक वेबसाईट की रिपोर्ट के अनुसार, पेâसबुक और विपणन एजेंसी न्यूरो-इनसाइट द्वारा किए गए शोध में सामने आया है कि वैâसे उपभोक्ता पेâसबुक या टेलीविजन पर पहले से देखे गए विज्ञापनों पर प्रतिक्रिया देते हैं। इस परिणाम में पता चला है कि पेâसबुक पर दिखने वाले विज्ञापन से ब्रांड का प्रभाव लोगों पर ज्यादा पड़ता है। वह तुरंत इस पर प्रतिक्रिया देते हैं। इस शोध के लिए न्यूरो-इनसाइट ने अमेरिका में १०० पेâसबुक उपभोक्ताओं के एक समूह को २१ और ५४ आयुवर्ग के दो समूहों में बांटकर परीक्षण किया। परीक्षण के दौरान एजेंसी ने दो तरह के वीडियो विज्ञापनों का इस्तेमाल किया, जिसमें पेâसबुक के लिए बनाया गया एक विज्ञापन और टेलीविजन के लिए बनाया गया विज्ञापन शामिल है।
पहले दिन एक समूह ने एक टेलीविजन शो देखा, जिसके बीच विज्ञापनों को दिखाया गया, जबकि दूसरे समूह को पेâसबुक खबरें देखने के लिए कहा गया। दूसरे दिन दोनों समूहों को टेलीविजन शो के दौरान वहीं विज्ञापन फिर से दिखाए गए। इस परीक्षण के दौरान प्रत्येक समूह ने ईईजी की टोपियां पहनी हुई थीं, जिससे उनके दिमाग के विभिन्न हिस्सों की प्रतिक्रियाओं को मापा जा सके। इस अध्ययन में पता चला कि जिन प्रतिभागियों ने टेलीविजन पर विज्ञापन देखे, उनकी यादाश्त ने उन विज्ञापनों को याद रखने की प्रक्रिया में ५० प्रतिशत कम प्रदर्शन किया, जबकि पेâसबुक पर विज्ञापन देखने वाले लोगों की याददाश्त ने बेहतर प्रदर्शन किया।