सर्जरी का कमाल : 15 साल बाद सीधी हुई 90 डिग्री तक झुकी रीढ़


नई दिल्ली। रीढ़ की हड्डी में विकृति के चलते चलने-फिरने में असमर्थ एक 28 वर्षीय युवक 15 साल बाद पहली बार सीधा खड़ा हो सका। दिल्ली के इंडियन स्पाइनल इंजरी सेंटर के चिकित्सकों ने बीते सप्ताह आठ घंटे तक चली सर्जरी के बाद उसकी लगभग 90 डिग्री झुक चुकी रीढ़ की हड्डी को सीधा कर दिया।

इंडियन स्पाइनल इंजरी सेंटर के डॉक्टर गुरुराज ने बताया कि 28 वर्षीय धीरज जब अस्पताल आए थे, तब उनकी रीढ़ की हड्डी इतनी मुड़ी थी कि वह लगभग जमीन के समानांतर थी। शुरुआती जांच में चिकित्सकों ने पाया कि मरीज को पिछले 15 वर्षों से इंफ्लेमेटरी आर्थराइटिस था। सन 2003 से वह खड़े तक नहीं हो पाए थे और सीधे सामने की ओर देख नहीं पाते थे।

चलने के लिए उन्हें छड़ी का सहारा लेना पड़ता था। जब वह सोते थे, तब भी ऐसा लगता था कि वह बैठे हैं। डॉ. गुरुराज ने बताया कि शुरुआत में धीरज को दोनों कूल्हों में दर्द होता था। वर्ष 2001 में उनका ऋयुमेटिक फीवर का इलाज किया गया, लेकिन इलाज का असर संतोषजनक नहीं रहा। दोनों कूल्हों और रीढ़ की हड्डी में दिक्कत होने की वजह से सन 2015 से धीरज पूरी तरह से बिस्तर पर आ गए।

सी साल अप्रैल में उनकी टोटल हिप रिप्लेसमेंट सर्जरी की गई, जिसके बाद वह बिस्तर से उठ सकते थे और सहारा लेकर हिल-डुल सकते थे, मगर उनकी सामने की विकृति ठीक नहीं हो सकी। इसके बाद आईसीसी के चिकित्सकों ने सर्जरी का निर्णय लिया और धीरज की करेक्टिव ऑस्टियोटॉमीज और फिक्सेशन सर्जरी की। करीब आठ घंटे चली सर्जरी के बाद मरीज की हालत में सुधार देखने को मिला।

अब धीरज बिस्तर पर सही ढंग से सो सकते हैं और सीधे खड़े हो सकते हैं। डॉ. गुरुराज कहा कि हमें उम्मीद है कि अब वह सामान्य जिंदगी जीने में सक्षम होंगे।

– ईएमएस