ब्रेन डेड मरीज ने 1 दिन में ३ को दी नई जिंदगी


नई दिल्ली। दिल्ली में एक ६५ वर्षीय ब्रेन डेड मरीज ने अंगदान से पहली बार एक साथ तीन मरीजों को नया जीवन दिया है। अपोलो अस्पताल में एक ६५ वर्षीय मरीज के ब्रेन डेड होने के बाद परिजन अंगदान के लिए तैयार हुए।

डॉक्टरों ने तत्काल मरीज की दो किडनी और एक लिवर को निकाल अन्य मरीजों में प्रत्यारोपित करने की प्रक्रिया शुरू की। इसी बीच एक किडनी और लिवर अपोलो अस्पताल में ही भर्ती दो मरीजों को प्रत्यारोपित किए, जबकि एक किडनी को ग्रीन कॉरिडोर की मदद से दिल्ली के आर्टिमस अस्पताल में प्रत्यारोपित करवाया गया है।

अपोलो अस्पताल के डॉक्टरों का कहना है कि कुछ दिन पहले ही ६५ वर्षीय भल्ला को गंभीर बीमारी के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। १९ सितंबर को डॉक्टरों ने उन्हें ब्रेन डेड घोषित किया है।

मरीज की पत्नी नैना भल्ला का कहना है कि जब डॉक्टरों ने मेरे पति को ब्रेन डेड घोषित किया तो काफी टूट चुके थे। डॉक्टरों ने हमें बताया कि मेरे पति के स्वस्थ अंग कई और लोगों को नया जीवन दे सकते हैं। हमारे लिए इस वास्तविकता को स्वीकारना थोड़ा मुश्किल था, लेकिन बाद में हमने अंगदान का फैसला ले लिया है।

– ईएमएस