सावधान, इंसानी दिमाग को चट कर जाता है यह दुनिया का सबसे खतरनाक साफ पानी में रहने वाला ये अमीबा!


Image | Pixabay.com

वाशिंगटन (ईएमएस)। एकदम साफ दिखाई देने वाला पानी जरूरी नहीं कि साफ ही हो। हो सकता है कि उसमें आपके दिमाग को चट कर जाने वाला अमीबा हो, जिसके प्रति आप जरा भी सावधान नहीं हैं। दुनिया का सबसे खतरनाक अमीबा आपके आस-पास कहीं भी मौजूद हो सकता है। पानी उसकी मौजूदगी का अहम स्थान है।

साफ पानी में रहता है

यह अमीबा पीने के पानी से लेकर आप जिस स्विमिंग पूल या नदी, तालाब, पोखर में तैरने जाते हैं वहां मौजूद हो सकता है। इसी माह अमरीका में दिमाग को खा जाने वाले अमीबा की वजह से कई मौतें हुई हैं। डॉक्टर से लेकर शोधकर्ता तक सब इसी खोज में लगे हैं कि यह आया कहां से।

इस अमीबा का संबंध पानी से है और पानी हमारे जीवन का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है। शरीर के भीतर भी और बाहर भी इसलिए आपको इस अमीबा के बारे में जान लेना चाहिए। इस अमीबा का वैज्ञानिक नाम नेग्लरिया फाउलेरी है।

नेग्लरिया फाउलेरी है वैज्ञानिक नाम

दिमाग को चट कर जाने वाला अमीबा यानि नेग्लरिया फाउलेरी एक एकल कोशिका जीवित जीव है, जो आम तौर पर झीलों, नदियों और गर्म झरनों और मिट्टी जैसे गर्म ताजे पानी में पाया जाता है। नेग्लरिया फाउलेरी का संक्रमण अम्बेरिक मेनिंगोएन्सेफलाइटिस (पीएएम) नामक एक बीमारी का कारण बन सकता है, जो केंद्रीय तंत्रिका तंत्र की एक बीमारी है। यह बीमारी हमेशा बेहद घातक होती है। इससे मौत निश्चित है। संयुक्त राज्य अमेरिका में 143 में से केवल 4 लोग नेग्लरिया फाउलेरी के अटैक के बावजूद 1962 से 2017 तक संक्रमण में बचे हैं।

पानी नाक के माध्यम से प्रवेश करे तभी खतरा

यह खतरनाक अमीबा लोगों को तभी प्रभावित करता है जब दूषित पानी नाक के माध्यम से शरीर में प्रवेश करता है। एक व्यक्ति नेगलेरिया फाउलेरी से दूषित पानी निगलने से संक्रमित नहीं हो सकता है। संक्रमण तब हो सकता है जब संक्रमित पानी नाक ऊपर जाता है। यह आमतौर पर तब होता है जब लोग तैराकी या गोताखोरी करते हैं। अगर ऊपर से पानी पीते समय आप पानी खुद पर गिरा लें तब भी संक्रमण हो सकता है। संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे में फैल नहीं सकता है।

आम तौर पर अमेरिका से भारत आते हैं संक्रमण

गर्मी के महीनों के दौरान दक्षिणी अमेरिकी राज्यों में नेग्लरिया फाउलेरी आमतौर पर पाया जाता है। हालांकि, हाल ही में यह कुछ उत्तरी राज्यों में भी पाया गया है। यह बेहद दुर्लभ संक्रमण है, लेकिन लोगों को इससे होने वाले जोखिम से अवगत होना चाहिए। अमेरिका में फैलने वाले ज़्यादातर संक्रमण कुछ समय बाद भारत में पाए जाते हैं या दुनिया के अलग अलग इलाकों में मिलते हैं।

अमरिका के न्यूजर्सी में एक व्यक्ति की इस बीमारी से मौत हुई

सीएनन की रिपोर्ट के मुताबिक अमरिका के न्यूजर्सी में एक व्यक्ति जब स्थानीय रिसोर्ट में गर्मी की छुट्टियां मनाने गया था, तब सर्फिंग के दौरान उसे इंफेक्शन लग गया और उसकी मौत हो गई।

12 वर्षीय बच्ची ने बीमारी को किया परास्त

उधर एक 12 वर्षीय अमेरिकी बच्ची को भी इस दिमाग चट कर जाने वाले अमीबा का इंफेक्शन लग गया था, लेकिन सौभाग्य से वह इससे होने वाली बीमारी को मात देने में कामयाब हो गई। सुनिये उसकी आपबीती नीचे वीडियो मेंः

नेग्लरिया फाउलेरी 40 डिग्री सेल्सियस तक उच्च तापमान पर सबसे तेजी से बढ़ता है और उच्च तापमान पर कम समय के लिए जीवित रह सकता है। नेग्लेरिया फौलेरी के प्रमुख लक्षणों में माथे की तरफ गंभीर सिरदर्द, बुखार, मतली, और उल्टी शामिल है। बाद के लक्षणों में कठोर गर्दन, दौरे, बदलती मानसिक स्थिति और कोमा भी शामिल हो सकते हैं।