अमिताभ बच्चन को हटाना पड़ गया अपना ट्वीट, वॉट्सएप फेक मैसेज पोस्ट कर दिया था


(Photo Credit : indiatvnews.com)

बॉलीवुड के शहनशाह को उस वक्त शर्मिंदगी से गुजरना पड़ गया जब उन्हें अपना एक ट्वीट डिलीट कर देना पड़ा। दरअसल हुआ यूं कि रविवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आह्वान पर जनता कर्फ्यू के दौरान शाम पांच बजे कोरोना से संघर्षरत सेवाकर्मियों के सम्मान में जनता को थाली, शंख और घंटियां बजानी थी। पीएम के आह्वान को जोरदार प्रतिसाद भी मिला। बॉलीवुड के दिग्गजों ने भी अपने घरों की बाल्किनियों और छतों से थाली, घंटिंयां बजाईं। सुपरस्टार अमिताभ बच्चन के परिवार ने भी ऐसा ही किया।

हालांकि उसके बाद अमिताभ बच्चन ने एक ट्वीट कर दिया। ट्वीट दरअसल एक वॉट्सएप फोरवर्ड था, जिसमें लिखा था कि 22 मार्च को शाम 5 बजे अमावस्या है, जो महीने का सबसे काला दिन है और इस दिन वातावरण में बैक्टेरिया व दुष्ट शक्तियों का वर्चस्व रहता है। तालियां बजाने और शंखनाद से इन असुरी ताकतों को कम किया जा सकता है, वायरल की शक्ति कम हो सकती है।

 

अमिताभ बच्चन के इस ट्वीट पर लोगों ने कड़ी प्रति‌‌क्रिया जताई। बता दें कि सरकारी एजेंसी पीआईबी ने इसी वॉट्सएप संदेश को फेक प्रमाणित करते हुए स्पष्ट किया था कि तालियां बजाने, थालियां पिटने से कोरोना वायरस को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया जा सकता। ये तो सिर्फ कोरोना के खिलाफ संघर्षरत जवानों, स्वास्थ्यकर्मियों आदि को प्रोत्साहन देना है। लोगों की प्रतिक्रिया के बाद हालां‌कि अमिताभ ने ट्वीट को डिलीट कर दिया।