सीढ़ियों का इस्तेमाल रखे आपके दिमाग को जवां


‘यंग ब्रेन’ चाहिए तो लिफ्ट की जगह सीढ़ियों का करें इस्तेमाल
दिमाग को युवा रखने हेतु करें सीढ़ियों का उपयोग
टोंरटो । अक्सर लोग खुद को प्रेâश और दिमाग को जवां रखने के लिए तरह-तरह के एक्सपेरिमेंट करते रहते है। कई लोग योग और मेडिटेशन करते है। तो कई लोग दिमाग को जवां बनाए रखने के लिए दवाइयों पर निर्भर हो गए हैं। लेकिन क्या सिर्पâ इनके दम पर ही दिमाग की उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को कम किया जा सकता है। एक ताजा शोध में सामने आया है कि सीढ़ियों का इस्तेमाल अपने दैनिक जीवन में करने से शरीर तो फिट रहता ही है साथ में दिमाग भी जवां रहता है। वैसे तो योग और मेडिटेशन हेल्थ के लिए अच्छे हैं। अगर आप इनके लिए समय निकाल लेते हैं, तो इससे अच्छा तो और कुछ नहीं हो सकता, लेकिन अगर आप योग और मेडिटेशन करने में असमर्थ है या समय नहीं निकाल पाते तो रोजाना लिफ्ट की बजाय सीढ़ियों के इस्तेमाल करके भी आप अपने शरीर को चुस्त और दिमाग को दुरुस्त बना सकते है। साथ ही यह माqस्तष्क को ज्यादा समय तक बुढ़ापे के लक्षणों से भी बचाकर रखता है। शोध के निष्कर्षों से सामने आया है कि वृद्ध लोग अगर सीढ़ियों का प्रयोग करते हैं तो उनका माqस्तष्क सक्रिय रहता है, जिससे माqस्तष्क की आयु बढ़ने वाली प्रक्रिया धीमी हो जाती है। कनाडा की कोनर्कोिडया यूनिर्विसटी से इस अध्ययन के मुख्य लेखक जैसन स्टेफनर ने बताया, ‘विभिन्न विभागों और सार्वजनिक परिवहन वेंâद्रों में ‘टेक द चेयर्स’ सीढ़ियों के प्रयोग अभियान का समर्थन देखने को मिलता है।’ स्टेफनर कहते हैं, ‘यह अध्ययन बताता है कि इन अभियानों में वृद्धों लोगों को भी शामिल करना चाहिए, ताकि वह अपने माqस्तष्क को जवां रख सवेंâ।’ इस शोध में अध्येताओं ने १९-७९ आयु वर्ग के ३३१ स्वस्थ्य लोगों को शामिल किया था। इसके तहत स्टेफनर और इनके सहयोगियों ने प्रतिभागियों के माqस्तष्क की जांच के लिए मैग्नेटिक रेसोनेंस इमैिंजग का उपयोग किया। स्टेफनर के अनुसार, ‘यह निष्कर्ष वाकई प्रोत्साहित करने वाले रहे, जब हमें पता चला कि एक सामान्य गतिविधि जैसे सीढ़ियों की चढ़ाई माqस्तष्क के स्वास्थ्य को बढ़ाने में एक असरदार उपकरण के रूप में हस्तक्षेप कर सकती है।’ यानि शोध से साफ है कि दिमाग को जवां रखने के लिए दवाईयों का इस्तेमाल न करते हुए अगर आप रोजाना सीढ़ियों का इस्तेमाल करते है तो जरुर इसका फायदा आपको देखने मिलेगा।