वृंदावन और वाराणसी की विधवाएं खेलेंगी होली


लखनऊ। वृंदावन और वाराणसी के वृद्धाश्रमों में एकांत जीवन जी रही हजारों विधवा महिलाएं इस बार विशेष तौर पर चार दिन तक रंगों का त्यौहार होली मनाएंगी। भगवान श्री कृष्ण की बाल लीलाओं के स्थान वृंदावन में यह पहला मौका होगा, जब वाराणसी की विधवाएं िंहदू परंपराओं के विपरीत वृंदावन के पागल बाबा आश्रम जाकर अपनी बहनों के साथ यह त्यौहार मनाएंगी। उन्हें यह मौका उपलब्ध करा रहा है गैर सरकारी संगठन सुलभ इंटरनेशनल। संगठन की ओर से इन महिलाओं को १ हजार किलो गुलाल और डेढ़ हजार किलो गुलाब और गेंदे के पूâलों की पंखुडियों की व्यवस्था की गई है। संगठन के मुताबिक, होली का यह त्यौहार काफी धूमधाम के साथ शुरू हुआ है, जिसमें संगीत और नृत्य प्रदर्शन भी शामिल हैं। यह उत्सव उस सामाजिक मिथक को तोड़ने का प्रयास है, जिसके कारण अपने पतियों को खो चुकी महिलाएं होली नहीं खेल सकतीं।