भगवान शिव को घोषित करो `राष्ट्रपिता’ : आदित्यनाथ


जैसलमेर। हमेशा से ही अपने विवादित बयानों से पहचाने जाने वाले बीजेपी नेता योगी आदित्यनाथ ने एक बार फिर विवादित बयान के चलते सुर्खियों मे आ गए है। दरअसल, राजस्थान में जैसलमेर के एक भंडारा कार्यक्रम में उन्होंने महात्मा गांधी को निशाना बनाते हुए कहा ‘कोई भी राजनीतिक दल किसी को भी राष्ट्रपिता घोषित नहीं कर सकता। उन्होंने कहा, ‘राष्ट्रपिता घोषित करना है तो भगवान शिव को कीजिए।’ सांसद योगी आदित्यनाथ ने कहा कि भारत की सीमाओं का विस्तार करने वाले भगवान शिव और भगवान राम हैं। भारत की अखंड शक्ति के वे स्रोत हैं। इसलिए शिव को ही भारत का राष्ट्रपिता माना जाना चाहिए। गोरखपुर से भाजपा सांसद योगी आदित्यनाथ ने जैसलमेर के पोकरण में भी अपने तीखे बोल बोले। बीजेपी नेता ने कहा, ‘भारत में एक संप्रदाय है जो भारत माता की जय और वंदेमातरम् का विरोध करता है। असल में विदेशी जूठन खाकर कुछ लोग भारत की सनातन संस्कृति को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं।’ इसके साथ ही उन्होंने कहा कि ऐसे लोग जो भारत माता की जय और वंदेमातरम् बोलने से इंकार करते हैं, उन्हें खुद की मां पर शक होता है। और ऐसे लोगों को भारत में रहने का कोई अधिकार नहीं। योगी ने कहा कि साल २०११ के आंकड़ों में िंहदुओं की संख्या में आई कमी हमें आईना दिखा रही है और यह चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि िंहदुओं की संख्या तो घट रही है, लेकिन एक वर्ग विशेष की संख्या तेजी से बढ़ रही है। यह हमें सोचने पर मजबूर करती है। उन्होंने कहा कि िंहदुओं की हर जगह तौहीन की जा रही है। ऐसे में िंहदुओं को सोचने की जरूरत है।