पूर्ण चंद्रग्रहण कल


नयी दिल्ली। शनिवार दिनांक ०४.०४.१५ चैत्र मास की र्पूिणमा तिथि है तथा इस दिन वर्ष २०१५ का पहला पूर्ण चंद्रग्रहण लग रहा है। पूर्ण चंद्रग्रहण उस समय घटित होता है, जब सूर्य और चंद्रमा के बीच पृथ्वी आ जाती है। परिक्रमा करते हुए चंद्रमा इस ाqस्थति में आ जाता है कि वह पृथ्वी की ओट में पूरी तरह से छिप जाता है और उस पर सूर्य की रौशनी नहीं पड़ती।
ज्योतिष के खगोल शास्त्र के अनुसार सूर्य चंद्रमा और पृथ्वी की विशिष्ट ाqस्थतियों के कारण र्नििमत होने वाला यह पूर्ण चंद्रग्रहण भारत तथा समस्तर िंहदमहासागर क्षेत्र से र्दिशत होगा। अत? पूर्ण चंद्रग्रहण का प्रभाव व सूतक हर जीवजंतु पर प्रभावी होगा।
भारतीय राजधानी क्षेत्र नई दिल्ली के रेखांश-अक्षांश व वत्र्तमान गोचर ाqस्थत के अनुसार र्पूिणमा तिथि शुक्रवार दिनांक ०३.०४.१५ शाम ०३ बजकर २१ मिनट से प्रारंभ होकर शनिवार दिनांक ०४.०४.१५ शाम ०५ बजकर ३५ मिनट तक विद्यमान रहेगी। पूर्ण चंद्रग्रहण हस्त नक्षत्र में लग रहा रहा है अत? हस्त नक्षत्र दिनांक ०३.०४.१५ रात ०८ बजकर ५० मिनट से प्रारंभ होकर शनिवार दिनांक ०४.०४.१५ रात ११ बजकर ३५ मिनट तक विद्धमान रहेगा। पूर्ण चंद्रग्रहण का सूतक शनिवार दिनांक ०४.०४.१५ प्रातः ३ बजकर ४६ मिनट से शुरू हो जाएगा। भारतीय समय के अनुसार पूर्ण चंद्रग्रहण का प्रारंभ शनिवार दिनांक ०४.०४.१५ शाम ३ बजकर ४५ मिनट से प्रारंभ होकर शाम ७ बजकर १५ मिनट तक रहेगा। पूर्ण चंद्रग्रहण शाम ५ बजकर ३० मिनट पर अपने चरम स्तर पर पहुंचेगा, जब चंद्रमा पृथ्वी की छाया से पूरी तरह ढंका नजर आएगा।
पूर्ण खग्रास चंद्रग्रहण पूरे भारत में कहीं आंशिक और कहीं अर्ध रूप में दिखाई देगा। चंद्रग्रहण नागालेंड के कोहिमा क्षेत्र में शाम ५ बजकर २५ मिनट और असम के डिब्रूगढ़ क्षेत्र में पांच बजकर २८ मिनट पर अधिक समय तक और स्पष्ट दिखाई देगा। खग्रास चंद्रग्रहण का मध्य काल शाम पांच बजकर ५० मिनट ३० सेवंâड और मोक्ष काल शाम ७ बजकर १५ मिनट और २ सेवंâड रहेगा। चन्द्रोदय होते ही चंद्रग्रहण देश की राजधानी दिल्ली में शाम ६ बजकर ३९ मिनट, पंजाब के अमृतसर मे शाम ६ बजकर ५२ मिनट, जालंधर मे शाम ६ बजकर ४७ मिनट, चंडीगढ़ मे शाम ६ बजकर ४१ मिनट, हरिद्वार मे शाम ६ बजकर ३६ मिनट, चेन्नई में शाम ६ बजकर २० मिनट, कोलकाता में शाम ५ बजकर ५१ मिनट और मुम्बई में शाम ६ बजकर ५४ मिनट पर नजर आयेगा।