नमक खाने से 6 लाख भारतीयों की मौत


नई दिल्ली। भारत में सड़क हादसों, गरीबी, भुखमरी, सहित कई वजहों से लाखों लोग हर साल मरते हैं। लेकिन ताजा आंकड़ा चौकाने वाला है जिसके चलते लाखों लोगों को हर साल मृत्यु होती है। दि जॉर्ज इंस्टीटयूट फॉर ग्लोबल हेल्थ के सर्वे के अनुसार हर साल छह लाख भारतीय अतिरिक्त नमक खाने की वजह से मर जाते हैं। मोटापे पर पंजाबी तड़का, लो बढ़ गई शुगर, बीपी सर्वे में यह बात निकलकर सामने आयी है कि ७४२८ पैकेज्ड पूâड में नमक की मात्रा अधिक होती है, जो लोग इन उत्पादों का उपयोग करते हैं वह इसके नुकसान से अवगत नहीं होते हैं। पाqश्चमी देशों में नमक की मात्रा उत्पाद के उपर साफ लिखी होती है। डॉक्टरों का मानना है कि भारत में भी उपभोक्ताओं को भी इस बात का पता होना चाहिए कि उनके खाने में क्या है और उन्हें इस बात के बारे में जानकारी देना अनिवार्य होना चाहिए। भारत में जॉर्ज इंस्टीटयूट एक मोबाइल एाqप्लकेशन शुरु करने जा रहा है जिसका नाम होगा पूâडाqस्वच जो उत्पादों में मौजूद तत्वों की जानकारी देगा। सर्वे में यह भी सामने आया है कि हर चौथे उत्पाद के उपर यह तक नहीं लिखा होता है कि उसकी न्यूट्रीशन वैल्यू क्या है। जिसके चलते हर साल ६ लाख लोगों की मौत अतिरिक्त नमक खाने की वजह से हो जाती है। भारत में नमक की वजह से होने वाली मृत्यु पांचवी सबसे बड़ी मौत की वजह है। जॉर्ज इंस्टीटयूट के डायरेक्टर डॉ विवेकानंद झा के अनुसार वर्ष १९९० की तुलना में यह आंकड़ा दोगुना हो गया है। अतिरिक्त नमक की वजह से ब्लड प्रेशर की समस्या होती है। जिसके चलते दिल के दौरे की संभावना बढ़ जाती है इसके साथ ही किडनी पेâल होने की भी संभावना बनी रहती है।