ड्राइवर को नहीं चला पता,70 किमी तक बस में अटका रहा शव


-बस की धुलाई के दौरान पता चला शव के बारे में
बेंगलुरु (ईएमएस)। रविवार को कर्नाटक स्टेट ट्रांसपोर्ट कॉर्पोरेशन से एक हैरान कर देने वाली घटना सामने आई। इस घटना में एक बस के साथ एक शव 70 किमी तक फंसा चला गया। बस चालक का कहना है कि उस शव के बारे में भनक भी नहीं लगी। हालांकि, उस गिरफ्तार कर लिया गया है। केएसआरटीसी अधिकारी ने बताया कि किसी शव के 200-300 मीटर तक खिंचकर जाने की वारदातें तो कभी सामने आ जाती हैं लेकिन 70 किमी तक शव के चले जाने की बात से सभी हैरान हैं। शव की शिनाख्त अभी नहीं हो सकी है।
शांतिनगर डिपो पर काम करने वाले बस चालक मोहिनुद्दीन तमिलनाडु के कुन्नूर से बेंगलुरु नॉन-एसी स्लीपर बस लेकर आए। उन्होंने पुलिस को बताया,मैसूर-मांड्या-चन्नपटना रूट से बस बेंगलुरु आ रही थी।बेंगलुरु से 70 किमी दूर चन्नपटना में एक आवाज आई। मुझे लगा कि बस में कोई पत्थर आकर लगा है। रिअर-व्यू मिरर में भी कुछ दिखा तो नहीं मैंने बस चलाना जारी रखा। बस बेंगलुरु रात 2:35 बजे पहुंची। इसके बाद बस पार्क कर मोहिनुद्दीन सोने चले गए। अगले दिन सुबह करीब 8 बजे जब बस को धोया जा रहा था तब किसी की नजर शव पर पड़ी। जिसके बाद विल्सन गार्डन पुलिस को इसकी सूचना दी गई। बताया गया है कि मृत व्यक्ति की उम्र 30 से 40 साल के बीच हो सकती है। विक्टोरिया अस्पताल में शव को रखा गया है। बेंगलुरु-मैसूर रूट पर पुलिस स्टेशन को अलर्ट कर दिया गया है। बस चालक को आईपीसी की धारा 304 ए और 201 के तहत गिरफ्तार किया गया है।