जानवर पालने से कम होती है दिल संबंधी रोग


नई दिल्ली। हार्वर्ड विश्वविद्यालय द्वारा किए शोध में सामने आया है कि जिनके पास पालतू कुत्ते होते हैं, उनका रक्तचाप कम और कोलेस्ट्रॉल का स्तर भी नियमित रहता है। उनमें मोटापा और अवसाद होने की संभावना भी कम होती है। हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष एवं आईएमए के ऑनरेरी सेव्रेâटरी जनरल डॉ. के.के. अग्रवाल का कहना है, ‘इस बारे में कई शोध सामने आ चुके हैं, जिनसे पता चलता है कि जिन लोगों के पास पालतू कुत्ता होता है, उनमें कोलेस्ट्रॉल और टरिगलीस्राइड का स्तर कम होता है।’ उन्होंने कहा कि यह हाईपरटेंशन और मोटापे के खतरे को भी कम करता है। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि कुत्ता होने से शारीरिक गतिविधि बढ़ती है और तनाव कम करने में मदद मिलती है। यह घर पर सकारात्मक माहौल बनाता है और खुशियां बढ़ाने में मदद करता है। डॉ. अग्रवाल का कहना है कि, ‘कुत्ते को रोज सैर करवाने से आपको भी धूप में जाने का मौका मिलता है, जिससे आपका शरीर उचित मात्रा में विटामिन-डी सोख लेता है, जो कि सेहतमंद दिल के लिए बेहद जरूरी है।’
साथ ही उन्होंने बताया कि नियमित तौर पर कुत्ते के साथ खेलने और उसका ख्याल रखने ये आपका रक्तचाप संतुलित रहता है और तनावमुक्त करने वाले हार्मोन ऑक्सीटोसिन निकलते हैं, जिससे तनाव पैदा करने वाला हार्मोन र्कोिटसोल कम होता है। डॉ. अग्रवाल के मुताबिक, ‘जानवर बहुत अधिक देखभाल और प्यार की मांग करते हैं। उनकी सेहत का भी खूब ध्यान रखना पड़ता है, जिसके बदले आपकी सेहत भी अच्छी रहती है। अगर आप इसके लिए तैयार हैं तो फिर आपको इन्हें रखने में कोई बाधा नहीं आएगी।’ उन्होंने स्पष्ट किया कि पालतू जानवर रखने और दिल की बीमारियां कम होने में कोई सीधा संबंध नहीं है, लेकिन यह एक समुचित नजरिया है जो एक अच्छी जीवनशैली अपनाने और दिल की अच्छी सेहत बनाने में मदद कर सकता है। जो लोग कुत्ता या बिल्ली पालते हैं, उनके लिए वे सिर्पâ पालतू जानवर नहीं होते, बाqल्क उनके दोस्त होते हैं। ऐसा दोस्त जिसके साथ आप अपने दुख व खुशियां बांट सकते हैं। अगर आपके पास एक प्यारा सा कुत्ता हो तो वह आपके अकेलापन, अवसाद या तनाव को कम करता है और सकारात्मक िंजदगी जीने में मददगार साबित होता है।