एटीएम की जगह आईटीएम


नई दिल्ली। आने वाले छह महीने के अंदर एटीएम की तरह दिखने वाली इंटरोqक्टव टेलर मशीन (आईटीएम) का प्रयोग बैंक के रूप में किया जा सकेगा आईटीएम के जरिए आप ९० फीसदी से अधिक बैंिंकग सेवाओं का लाभ ले सवेंâगे। फिलहाल गुड़गांव के इंडसइंड बैंक में पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर ऐसी एक आईटीएम लगाई गई है। आईटीएम टेली र्सिवस ब्रांच टांजेक्शन तकनीक पर काम करती है। इसके तहत कॉल सेंटर में बैठा बैंकर आपको सभी तरह की बैंिंकग सेवाएं आईटीएम के जरिए मुहैया कराता है। आईटीएम में फोन का एक हैंडल लगा रहता है।जब आप लेन-देन करते हैं तो स्क्रीन पर वीडियो कॉिंलग के जरिए कॉल सेंटर में बैठा बैंकर आपको निर्देश देगा। ऐसे आप आईटीएम से सभी तरह की सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं। कर्मचारियों पर होने वाला खर्च घटेगा: इस मशीन को लगाने के बाद बैंक का कर्मचारियों और शाखा पर होने वाला खर्च काफी कम हो जाएगा। मशीन बनाने वाली वंâपनी के एनसीआर के प्रवक्ता ने बताया कि रिजर्व बैंक से इस तकनीक को स्वीकृति मिल चुकी है। छह महीने में देश की कई जगहों पर आईटीएम देखी जा सवेंâगी। पाqश्चमी और कुछ खाड़ी देशों में ऐसी मशीनें पहले से ही काम कर रही हैं।