एक से अधिक पार्टनर के लिए बना है इंसान


नई दिल्ली। कहते हैं कि पति-पत्नी का संबंध समझदारी, तालमेल, वफादारी पर निर्भर करता है। लोग कहते हैं कि पति को अपनी पत्नी और पत्नी को अपने पति के प्रति ईमानदार होना चाहिए, लेकिन विज्ञान की माने तो इंसान एक से अधिक संबंधों के लिए बना है। मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि इंसान हमेशा एक से अधिक संबंध बनाना चाहता है। विज्ञान के मुताबिक एक से अधिक संबंध को लेकर पुरुष ही नहीं बाqल्क महिलाएं भी उत्सुक रहती हैं। विवादास्पद टेड लैक्चर दावा करता है कि हम सब अनेक साथियों के साथ रहने के लिये बने हैं मनोवैज्ञानिक क्रिस्टोफर रयान ने मनुष्यों की तुलना चिम्पांजियों और बोनोबोस से की है। अपनी रिपोर्ट में उन्होंने कहा कि मनुष्यों की प्रजाति अनेकों से संबंध रखती है।एक से अधिक संबंध बनाने के पीछे उनका मकसद सिर्पâ बच्चे पैदा करना नहीं बाqल्क बेहतर संबंध बनाना भी होता है। उनके मुताबिक एक पत्नी या पति रखना समाज का बनाया गया एक नियम है और इसका मानव स्वभाव या आनुवंशिक स्वभाव से कोई संबंध नही है। मनोविज्ञान विशेषज्ञों के मुताबिक व़फादारी के मामले में स्त्री-पुरुष में कोई अंतर नहीं होता है। हलांकि अक्सर देखा गया है कि पुरुष, महिलाओं की तुलना में एक से अधिक संबंध रखने के इच्छुक होते हैं। मनोवैज्ञानिक क्रिस्टोफर रयान के मुताबिक एकपत्नीत्व के पीछे कोई वजह नहीं है। पुरुषों और महिलाओं का स्वाभाव कई साथियों के साथ संबंध बनाने का स्वभाव होता है।