एक मानव शरीर 100 लोगों को दे सकता है नया जीवन


लखनऊ। कम ही लोगों को पता होगा कि एक मानव शरीर के अंगो से १०० लोगों को नया जीवन दिया जा सकता है। और भी कम लोगों को पता होगा कि नेत्र, हार्ट वाल्व, रक्त धमनियां, हव्ी, त्वचा, मांसपेशियां, चेहरे और उंगलियों का दान कर कोई भी व्यक्ति १०० लोगों की जिंदगी बचा सकता है।
मध्य कमान में बेस अस्पताल के सेनानायक एसके गुप्ता ने शारीरिक अंगों के दान की जरूरत पर जोर देते हुये शुक्रवार को यहां संपन्न संगोष्ठी में यह जानकारी दी। इस मौके पर किडनी, लीवर एवं कोर्निया प्रत्यारोपण पर भी चर्चा की गई। इस दौरान संगोष्ठी में दिल्ली स्थित सेना अस्पताल ने सशस्त्र बलों के विभिन्न केंद्रों के माध्यम से देश भर में किये जा रहे अंग प्रत्यारोपण के बारे में भी जानकारी दी। एक ताजा आंकडे के अनुसार सेना अस्पताल द्वारा १७०० से अधिक किडनी और ११० लीवर को सफलतापूर्वक प्रत्यारोपित किया गया है। ब्रिगेडियर गुप्ता ने कहा कि कि संगोष्ठी के आयोजन का मकसद सभी रैंकों के सैन्यकर्मियों एवं उनके परिवारों को शारीरिक अंगों के दान के लिए जागरूक करना, अंग प्रत्यारोपण से जुड़ी जानकारी देना एवं इससे जुड़ी धार्मिंक भ्रांतियों को दूर करना था। बेस अस्पताल मे कल संगोष्ठी का उद्घाटन सेना चिकित्सा कोर केन्द्र एवं कॉलेज के सेनानायक ले. जनरल एमडी वेंकटेश ने किया।