…इसलिए बड़ रहा रात का तापमान


लंदन । पिछले कई सालों से पूरी दुनिया में दिन के मुकाबले में रात का तापमान अधिक गर्म रहता है, और इस प्रक्रिया के जारी रहने की संभावना है। इस संबंध में शोर्धािथयों ने लगभग पिछले ५० सालों से रातों के गर्म होने के कारणों का पता लगाया है। शोध के अनुसार, इतनी अधिक तेजी से बढ़ रही गर्म रातें जलवायु प्रणाली के लिए सहज हैं, क्योंकि रात का तापमान स्वाभाविक रूप से जलवायु के दबाव के प्रति ज्यादा संवेदनशील होता है। नार्वे के नानसेन इन्वायरमेंटल एंड रिमोट सेंिंसग सेंटर से शोध के नेतृत्वकर्ता ने तेजी से गर्म हो रही रातों का विश्लेषण करने के लिए २०वीं सदी के मौसम का अवलोकन और मॉडलों का आकलन किया। शोर्धािथयों ने देखा है कि गर्मी की संवेदनशीलता सतह की ठीक ऊपरी परत की हवा से जुड़ी है, जो सीमा परत कहलाती है। यह महत्वपूर्ण रूप से बाकी वातावरण से अलग होती है। शोध में कहा गया है कि हाल के कुछ सालों में रात के तापमान की उच्च संवेदनशीलता अत्यधिक ठंडी रातों को भी प्रभावित कर रही हैं। रात और दिन के तापमान की अलग-अलग संवेदनशीलता को समझना महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह मौसम परिवर्तन और मानव के स्वास्थ्य पर बुरा असर डाल सकती है।