इंटरनेट पर रोजाना 4 घंटे बिताते हैं भारतीय बच्चे


नई दिल्ली । भारत के शहरी क्षेत्रों में रह रहे ९ से १७ साल के बच्चे हर रोज इंटरनेट पर चार घंटे व्यतीत करते हैं और इसके लिए वे मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं। टेलीकॉम ऑपरेटर टेलीनॉर द्वारा किए इस वेबवाइज सर्वे में यह भी बताता है कि वर्ष २०१७ तक १३४ मिलियन भारतीय बच्चे तक ऑनलाइन होंगे। टेलीनॉर इंडिया के सीइओ शरद महरोत्रा ने कहा, `बच्चों को इंटरनेट तक ले जाने का सुलभ और सहज जरिया मोबाइल फोन बन रहा है।` सेफ इंटरनेट फोरम के दौरान `वेबवाइज- ए पैरेंटल गाइट’ के लांिंचग पर उन्होंने कहा, `वेबवाइज सर्वे २०१५ में किया गया था जिसमें ९ राज्यों के १० शहर से ३,२०० बच्चों को सैंपल के तौर पर लिया गया। सर्वे से प्राप्त परिणाम में कहा गया कि ९५ प्रतिशत बच्चे ९ से १७ वर्ष की उम्र के थे जो डिवाइसेज के जरिए इंटरनेट का उपयोग करते हैं।` फोरम में टेलीनॉर ने भारतीय बच्चों के लिए सुरक्षित इंटरनेट के लिए पहल की घोषणा की। महरोत्रा ने कहा, `एजुकेशन व गाइडेंस के जरिए बच्चों के लिए सुरक्षित इंटरनेट र्सिवस उपलब्ध कराने के लिए टेलीनॉर फोकस कर रहा है।` वंâपनी ने एनजीओ चाइल्ड हेल्पलाइन के साथ पार्टनरशिप की भी घोषणा की।