अलनीनो से सर्वाधिक गर्म रहा मई


वािंशगटन। भीषण गर्मी ने इस साल फिर मई महीने में वैश्विक तापमान के सारे कीर्तिमान ध्वस्त कर दिये हैं। उत्तरी गोलार्ध में वसंत सबसे गर्म रहा। नासा के मुताबिक, इस दौरान उत्तरी ध्रुव खास तौर से गर्म है, जिससे उत्तरी ध्रुव सागर की बर्पâ और ग्रीनलैंड की बर्पâ की परत के पिघलने का सिलसिला जल्द शुरू हो गया। उत्तरी गोलार्ध में बर्पâ की परत आसाधरण तौर पर कम थी। मई के इस रिकॉर्ड तापमान के साथ कई घटनाएं भी हुर्इं। यूरोप और दक्षिणी अमेरिका में बेहद भारी बारिश हुई। मूंगे की चट्टानों के रंग उड़ने की व्यापक घटनाएं हुर्इं। वैश्विक जलवायु अनुसंधान कार्यक्रम के निदेशक डेविड कार्लसन ने कहा कि इस साल अब तक की जलवायु ाqस्थति असाधारण तौर पर उच्च तापमान िंचता का विषय है। मार्च और मई में बर्पâ पिघलने की दर, जिसे हम आम तौर पर जुलाई तक नहीं देखते थे, पीढ़ियों में एक बार होने वाली बारिश जैसी घटनाओ को सुपर अल नीनो को आंशिक तौर पर जिम्मेदार ठहराया जा सकता है। साल २०१६ में अब तक उच्च तापमान की वजह मजबूत एल नीनो है, जिसका प्रभाव अब खत्म हो गया है।