अक्षय तृतीया का दुर्लभ योग 21 को


नईदिल्ली। इस बार अक्षय तृतीया का दुर्लभ योग २१ अप्रैल को पड़ रहा है। प्राचीन परंपराओं के अनुसार अक्षय तृतीया को विवाह के लिए सबसे शुभ दिन माना जाता है। इस दिन शुभ मुहूर्त में हजारों वर-वधू पेâरे लेते हैं। इस बार अक्षय तृतीया २१ अप्रैल को है और वैवाहिक एवं अन्य मांगलिक कार्यों के लिए इस दिन किसी भी तरह की कोई बाधा नहीं है। २१ अप्रैल को सुबह ११. ३७ बजे से दूसरे दिन ब्रह्ममुहूर्त तड़के चार बजे तक है। पंडितों के अनुसार, देश भर में इस दिन लाखों मंडप सजेंगे।
अक्षय तृतीया विवाह का प्रमुख लग्न होता है। लोग इसी दिन पेâरे लेने की इच्छा रखते हैं। इस साल तो दिनभर शुभ योग है, इसलिए लोगों को शुभ मुहूर्त के लिए परेशान भी नहीं होना पडेगा। २१ अप्रैल को ११.३७ बजे से रोहिणी नक्षत्र प्रारंभ होगा। इस समय से दूसरे दिन अलसुबह तक शुभ मुहूर्त है। विवाह के लिए यह दिन अत्यंत शुभ माना जाता है।
हजारों की तादाद में शादी होने से इस दिन पंडित भी व्यस्त रहेंगे। विवाह का मौसम आने से बाजारों में भारी भीड देखी जा रही है।