रेनो डस्टर बनाम हुंडई क्रेटा: कौन है बेहतर


हुंडई की क्रेटा को भारत में लॉन्च के साथ ही बेशुमार सफलता मिली। कई दूसरी वजहों के अलावा पहली बार डीज़ल इंजन में ऑटोमैटिक गियर बॉक्स का विकल्प मिलना इस सफलता की बड़ी वजह रही। अब रेनो भी नई डस्टर के साथ इस मुकाबले में कूद गई है। कॉम्पैक्ट एसयूवी का ट्रेंड शुरू करने वाली डस्टर के नए अवतार में 110पीएस पावर वाले डीज़ल वेरिएंट में ऑटोमैटिक (एएमटी) गियर बॉक्स दिया गया है।

यहां हम लाए हैं हुंडई की क्रेटा और फेसलिफ्ट डस्टर का कम्पेरिज़न, इसके जरिये जानने की कोशिश करेंगे कि दोनों में से कौन है बेहतर। तो जानने के लिए आइए बढ़ते हैं आगे…

डायमेंशन पर एक नज़र डालें तो नई डस्टर अपनी प्रतियोगी हुंडई क्रेटा से 42एमएम लम्बी, 65एमएम ऊंची और 42एमएम ज्यादा चौड़ी है। क्रेटा का व्हीलबेस और ग्राउण्ड क्लियरेंस डस्टर की तुलना में क्रमशः 83एमएम और 15एमएम कम है, जबकि बूट स्पेस में भी क्रेटा पिछड़ जाती है। इस तरह से देखा जाए तो कद-काठी के मामले में नई डस्टर प्रतियोगी क्रेटा पर भारी पड़ती है।

फीचर्स पर ध्यान दें तो डस्टर को ऑल व्हील ड्राइव फंक्शन के साथ पेश किया गया है। हालांकि यह केवल टॉप वेरिएंट में ही उपलब्ध है। लेकिन क्रेटा में यह फीचर देखने को नहीं मिलता। कंफर्ट फीचर्स के मामले में क्रेटा, डस्टर से आगे है। ताकत के मोर्चे पर भी क्रेटा का हर वेरिएंट डस्टर पर भारी पड़ता है।

अब बात करें हैं इंजन स्पेक्स पर तो दोनों के पेट्रोल वर्जन में 1.6 लीटर पेट्रोल इंजन दिया गया है। डीज़ल वर्जन में बदलाव देखने को मिलते हैं। डस्टर में 1.5 लीटर का डीज़ल इंजन है जो 85 पीएस और 110 पीएस पावर के विकल्प के साथ आता है। क्रेटा में 1.6 लीटर के साथ ही कम पावर वाला 1.4 लीटर डीज़ल इंजन भी मिलता है। क्रेटा की पावर और टॉर्क दोनों ही डस्टर पर भारी पड़ते दिखते हैं। दोनों के डीज़ल वेरिएंट में एएमटी का ऑप्शन मिलता है।

अब आते हैं कीमत पर तो रेनो डस्टर की कीमत हुंडई क्रेटा की तुलना में थोड़ी ज्यादा है। नई डस्टर 8.9 लाख से शुरू होकर 14 लाख रूपए (एक्स-शोरूम, नई दिल्ली) तक जाती है। वहीं क्रेटा की कीमत 8.3 लाख से शुरू होती है और 13.6 लाख रूपए (एक्स-शोरूम, नई दिल्ली) तक जाती है।

आखिर में बात करते हैं नतीजों की, हुंडई क्रेटा ज्यादा प्रीमियम लगती है। इसे हुंडई की एसयूवी सेंटा-फे का छोटा अवतार भी कहा जाता है। कार का डिजायन और दिए फीचर्स लग्जरी अहसास देते हैं। वहीं डस्टर देखने में ज्यादा प्रैक्टिकल और दमदार नज़र आती है। नई डस्टर के केबिन में भी काफी बदलाव किए गए हैं, हालांकि इसे प्रीमियम बनाने के बजाए प्रैक्टिकल रखा गया है। कंफर्ट और अन्य फीचर्स के मोर्चे पर क्रेटा, डस्टर से आगे है। वहीं परफॉर्मेंस फीचर्स के मामले में डस्टर बेहतर है। अगर आप कंफर्ट फीचर्स से ज्यादा हर रास्तों को आसानी से पार कर जाने वाली ऑफरोडर कार की ख्वाहिश रखते हैं तो फिर डस्टर अच्छा विकल्प है।

स्रोत : कार देखो.कोम