अयोध्या में राम मंदिर का मार्ग प्रशस्त होने के साथ जानिये गुजरात के किस मंत्री की 29 साल पुरानी मन्नत पूरी हुई


(Photo Credit : dnaindia.com)

अहमदाबाद (ईएमएस)| गुजरात के कैबिनेट मंत्री भूपेन्द्रसिंह चूडास्मा ने राम मंदिर को लेकर रखी गई मन्नत आज सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद पूर्ण हो गई| दरअसल भूपेन्द्रसिंह चूडास्मा ने 1990 में संकल्प लिया था कि जब तक अयोध्या में भव्य राम मंदिर नहीं बन जाता तब वह मीठा नहीं खाएंगे|

कई दशकों से अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण को लेकर चल रहे विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को ऐतिहासिक फैसला सुनाया| सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या में विवादित जमीन पर राम मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त करते हुए यह भूमि राम जन्मभूमि न्यास को सौंपने का आदेश दिया| सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से गुजरात के कैबिनेट मंत्री भूपेन्द्रसिंह चूडास्मा की 1990 में ली गई शपथ आज पूर्ण हो गई| गांधीनगर में स्वर्णिम संकुल-1 में भूपेन्द्रसिंह चूडास्मा की एक मात्र ऐसी ऑफीस है, जहां उनसे मुलाकात करने आनेवाले सभी व्यक्तियों का मुंह मीठा करवाया जाता है| लेकिन लोगों का मुंह मीठा करानेवाले चूडास्मा स्वयं पिछले 29 साल से मीठा नहीं खा रहे थे| क्योंकि उन्होंने 1990 में संकल्प किया था कि जब तक अयोध्या में राम मंदिर नहीं बन जाता तब तक वह मीठा नहीं खाएंगे|

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद भूपेन्द्रसिंह चूडास्मा ने कहा कि 25 सितंबर 1990 को सौराष्ट्र के सोमनाथ से निकली रथयात्रा में वह भी शामिल हुए थे और उसी वक्त शपथ ली थी कि जब तक अयोध्या में भगवान श्रीराम का मंदिर नहीं बन जाता तब तक मिठाई नहीं खाएंगे| उन्होंने कहा कि 29 साल बाद मन्नत पूरी हुई है|