साक्षी महाराज ने ममता को हिरण्यकश्यप की वंशज बताया, तो दीदी ने कहा मुझे ‘जय श्रीराम’ से ऐतराज नहीं!


(PC : journalistcafe.com)

हरिद्वार (ईएमएस)। पश्चिम बंगाल में ‘जय श्रीराम’ नारे पर भाजपा और तृणमुल कांग्रेस पर रार जारी है। दोनों की पक्ष एक दूसरे पर राजनीतिक हमले करने का कोई मौका नहीं चूक रहे हैं।

उत्तरप्रदेश के उन्नाव से भाजपा सांसद साक्षी महाराज ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को त्रेतायुग के राक्षस हिरण्यकश्यप की वंशज बताया है। ‘जय श्रीराम’ पर भड़की ममता को लेकर साक्षी महाराज ने कहा, ‘बंगाल की जब बात आती है तो त्रेता याद आता है। एक राक्षसराज था, हिरण्यकश्यप। उसके बेटे ने कहा दिया जय श्रीराम तो बाप ने बेटे को जेल में बंद कर दिया था। बहुत सारी यातनाएं दी थीं। बंगाल में वही दोहराया जा रहा है। बंगाल में लगता है कि हिरण्यकश्यप के खानदान की तो ममता नहीं हैं, जहां जय श्रीराम कहने वालों को यातनाएं दी जा रही हैं। जेल में भेजा जा रहा है।’

 

जय श्रीराम के बहाने ममता पर हमला बोलते हुए बीजेपी सांसद ने आगे कहा, ‘अब तो यह स्थिति हो गई है कि जय श्रीराम कहने से वह (ममता) खिसियाने लगी हैं। गालियां देने लगी हैं और सड़कों पर उतरने लगी हैं। विरोध में न जाने क्या-क्या योजना बनाने लगी हैं।’

इस दौरान साक्षी महाराज ने दावा किया कि पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव में बड़ी जीत दर्ज बीजेपी सरकार बनाएगी। साक्षी ने कहा, ‘पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव में तमाम विरोधों के बावजूद भारतीय जनता पार्टी 18 सीटें लेकर आई है। ऐसे में मैं पूरे विश्वास के साथ मां गंगा के तट पर यह कह सकता हूं कि विधानसभा के चुनाव में पश्चिम बंगाल में बीजेपी की सरकार बनेगी।’

भाजपा धार्मिक नारे को स्लोगन बना रही

उधर ‘जय श्रीराम’ नारे पर विवाद को गहराता देखे ममता बनर्जी ने आरोप लगाया है कि भाजपा एक धार्मिक नारे का राजनीतिक इस्तेमाल कर रही है। ममता ने कहा कि हर पार्टी का अपना स्लोगन होता है जिसका वह सम्मान करती हैं लेकिन भाजपा ‘जय श्रीराम’ को गलत तरीके से अपनी पार्टी का स्लोगन बनाने में लगी है।

फेसबुक पर एक पोस्ट में ममता बनर्जी ने लिखा है कि मीडिया के एक हिस्से की मदद से भाजपा के कार्यकर्ता नफरत बढ़ाने वाली विचारधारा फैलाने का काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ये लोग फेक विडियो, फेक न्यूज, गलत सूचनाओं और गलत प्रचार की मदद से सच को दबाने की कोशिश कर रहे हैं। बनर्जी ने कहा, ‘उन्हें किसी भी पॉलिटिकल पार्टी के स्लोगन से कोई दिक्कत नहीं है। हर पार्टी का अपना स्लोगन होता है। जैसे- मेरी पार्टी का जय हिंद-वंदे मातरम है। लेफ्ट पार्टी का स्लोगन ‘इंकलाब जिंदाबाद’ है। हम सबकी इज्जत करते हैं।’

बनर्जी ने आगे कहा कि ‘जय सियाराम’, ‘जय रामजी की’, ‘राम नाम सत्य है’ जैसे स्लोगन धार्मिक और सामाजिक मतलब रखते हैं लेकिन भाजपा इन्हें अपनी पार्टी के स्लोगन की तरह इस्तेमाल कर रही है। उन्होंने कहा कि भगवा पार्टी धर्म को राजनीति के साथ मिलाने की कोशिश कर रही है, इसे बंगाल कभी स्वीकार नहीं कर सकता। उन्होंने आगे कहा कि यह तोड़-फोड़ और हिंसक तरीके से नफरत की विचारधारा को जान-बूझकर बेचने की कोशिश है जिसका हम जरूर विरोध करेंगे।