ट्रेन लेट हुई और विद्यार्थी NEET की परीक्षा चूक गये; मंत्रीजी ने कहा चिंता मत करो, फिर परीक्षा लेंगे!


(प्रतिकात्मक तस्वीर)

हम्पी एक्सप्रेस को सुबह ७ बजे बेंग्लुरू पहुंचना था, और पहुंची दोपहर ३ बजे

रविवार को नेशनल एलीजिबिलिटी कम एन्ट्रेंस टेस्ट यानि नीट की परीक्षाएं निर्धारित थीं। लेकिन बेंग्लुरु जाने वाली ट्रेन हम्पी एक्सप्रेस जिसमें हजारों बच्चे सवार थे और परीक्षा देने जा रहे थे, पांच घंटे लेट हो गई। सभी बच्चे परीक्षा देने से चूक गये।

इस मामले में मानव संसाधान विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर राहत के समाचार लेकर आये हैं। केंद्रीय मंत्री ने घोषणा की है कि जो बच्चे ट्रेन लेन होने के कारण परीक्षा देने से वंचित रह गये हैं, उन्हें दूसरा मौका दिया जायेगा।

 

बता दें कि हुबली से मैसूरु जाने वाली हम्पी एक्सप्रेस डायवर्ट ‌किये गये मार्ग से अपने गंतव्य की ओर जा रही थी क्योंकि मूल मार्ग पर गुंटकल-कल्लूरू के बीच मेन्टेनन्स का कार्य चल रहा था। उत्तरी कर्नाटक के नीट की परीक्षा देने वाले बच्चों को बेंग्लुरू स्थित परीक्षा केंद्र पर सुबह ७ बजे पहुंचना था लेकिन ट्रेन देरी से पहुंचने के कारण वे दोपहर ३ बजे पहुंच सके। ट्रेन में हुबली, बेल्लारी, होसपेट और अन्य निकटवर्ती शहरों-गांवों के बच्चे सवार थे।

जब इस मामले में विद्यार्थियों और अभिभावकों की ओर से कड़ा विरोध किया गया तो कर्नाटक के मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने बीच-बचाव करते हुए इन बच्चों की विशेष परीक्षा लेने की मांग दोहराई। इसी के बाद केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने मामले का समाधान किया। बाद में मुख्यमंत्री ने केंद्रीय मंत्री के इस सहानुभूतर्ण्ण कदम की सराहना भी की।