इस बार ‘ओडिशा के मोदी’ भी पहुंचे हैं संसद में!


(PC : Twitter)

भारत जैसे विशाल देश में प्रतिभाओं की कतई कमी नहीं है। लेकिन दिक्कत यह है कि ये प्रतिभाएं जनता के समक्ष उभर कर सामने नहीं आ पाती। देश में सैंकडों ऐसे लोग हैं जो अपने स्तर पर देश के किसी कोने में निस्वार्थ भाव से समाजोपयोगी काम करते जाते हैं, और उन्हें प्रचार या नाम की कोई फिक्र नहीं होती। ओडिसा में भी एक ऐसे ही सज्जन है जिनका नाम है प्रताप सारंगी और उन्हें लोग ‘ओडिशा के मोदी’ के नाम से पहचानते हैं।

 

जी हां, ओडिशा के मोदी यानि प्रताप सारंगी अविवाहित हैं, उनका अपना कोई परिवार नहीं, संपत्ति केवल १० लाख रुपये, रहने के लिये छोटा का मकान, और गांव-गांव घूमते हैं अपनी साईकल पर। लोगों की भलाई में जीवन न्यौछावर कर रखा है इसलिये उनको लोकसमर्थन भी जबदरस्त है। इसी का नतीजा है कि इस बार के लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर वे ओडिशा क बालासोर संसदीय सीट से जीत हासिल कर संसद पहुंचे हैं।

 

प्रताप सारंगी की सादगी के क्षेत्र के लोग कायल हैं। ऐसा नहीं है कि उन्होंने पहली बार चुनाव लड़ा और जीते हैं। इससे पहले वे ओडिशा की नीलगिरी विधानसभा सीट से २००४ और २००९ में जीत कर विधायक रह चुके हैं। २०१४ के लोकसभा चुनाव में हालांकि वे चुनाव जीत नहीं पाये, लेकिन इस बार क्षेत्र की जनता ने उन्हें अपना समर्थन देने में कोई कंजूसी नहीं की।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जब कभी ओडिशा जाते हैं और उन्हें प्रताप सारंगी ‌दिख जाएं तो सामने से उनसे मिलकर हालचाल पूछते हैं और क्षेत्र की जानकारी लेते हैं। उन्हें नरेन्द्र मोदी का निकट का माना जाता है। क्षेत्र के लोग तो यहां तक कहते हैं कि जब कभी ओडिशा में भाजपा की सरकार बनेगी तब प्रताप सारंगी ही मुख्यमंत्री पद की पहली पसंद होंगे।

वैसे स्नातक की उपाधि प्राप्त प्रताप सारंगी को शुरूआत से फकिरी का जीवन जीना पसंद है। वे रामकृष्‍ण मठ में शामिल होना चाहते थे लेकिन मठ प्रबंधकों को जब पता चला कि प्रताप की मां बीमार रहती हैं तो उन्होंने उनसे मां की सेवा को प्राथमिकता देने को कहा। प्रताप फिर मां की देखभाल करने लगे और राजनीति व सामाजिक कार्यों में समय व्यतीत करने लगे। पिछले साल ही उनकी मां का देहांत हो गया।

खैर, इस बार के लोकसभा चुनाव ने एक ऐसी प्रतिभा को देश के सामने उजागर किया है जो एक निष्ठावान सामाजिक कार्यकर्ता और राजनीतिज्ञ हैं। ‘ओडिशा के मोदी’ के रूप में पहचाने जाने वाले प्रताप सारंगी लोकसभा के गलियारों में ‌दिखेंगे तो लोकचर्चा के अनुसार तो यही कहा जायेगा कि अब की बार लोकसभा में दो ‘मोदी’ दिखेंगे!