ट्रेन में फिल्म के प्रमोशन का सूरत के सुभाष डावर का आईडिया हिट हो गया


फिल्म ‘हाऊसफुल 4’ के लिये अक्षयकुमार और कलाकारों की फौज ने मुंबई से दिल्ली की सैर की, लेकिन फिल्म का प्रमोशन के लिये ऐसी सबसे पहली ट्रेन 2011 में ‘हम तुम शबाना ’ के लिये चली थी

सूरत। भारतीय रेल अपनी आय बढ़ाने के लिये नये-नये फिचर्स पर काम कर रह रही है। प्राईवेट ट्रेन के प्रयोगात्मक पहलू के बाद फिल्म प्रमोशन के लिये ट्रेन का उपयोग करने का आईडिया अपनाया गया है। इसके लिये भारतीय रेल ने बाकायदा ‘प्रमोशन ऑन व्हील्स प्रोजेक्ट’ शुरू किया है और बॉलीवुड स्टार अक्षय कुमार ने अपनी फिल्म ‘हाऊसफुल 4’ के लिये प्रचार हेतु यह माध्यम को चुना।

8 डिब्बों की एक ट्रेन में सारे कलाकार सवार हुए, डिब्बों पर फिल्म के पोस्टर लगाये गये और मुबई से दिल्ली का सफर किया गया। लेकिन लोकतेज के पाठकों को बता दें कि ट्रेन के माध्यम से फिल्म का प्रचार करने का आईडिया सूरत के उद्योगपति और फिल्म प्रोड्युसर रहे सुभाष डावर का है।

सितम्बर 2011 में उनकी फिल्म ‘हम तुम शबाना’ रीलीज हुई थी जिसे मीनीषा लांबा, तुषार कपूर, श्रेयर तलपडे, सतीश कौशिक आदि मंझे हुए कलाकार थे। चुंकि फिल्म के निर्माता सूरत के हैं, इसलिये वे उस समय फिल्म के प्रमोशन के लिये पूरी टीम को एक विशेष ट्रेन से मुंबई से सूरत लाये थे और टीजीबी में भव्य शो और पत्रकार परिषद का आयोजन किया गया था।

https://www.instagram.com/p/B3r7tCbHid8/?utm_source=ig_web_copy_link

आज आठ साल बाद आधिकारिक रूप से भारतीय रेल ने प्रमोशन ऑन व्हील्स के उस पुराने आईडिया को अमलीजामा पहनाया है। रेलवे अधिकारी के मीडिया को बताया कि ‘हाऊसफुल 4’ के प्रमोशन के लिये अक्षयकुमार एंड टीम ने 8 ‌डिब्बों की ट्रेन में सैर की। आगे भी ऐेसे 7 प्रोजेक्ट्स लाईन में हैं। केवल ‘हाऊसफुल 4’ के प्रमोशन से विभाग को 53 लाख रुपये की आय हुई है।

https://www.instagram.com/p/B3rcndOHQaQ/?utm_source=ig_web_copy_link

विभाग के सूत्रों ने बताया कि पिछले 2 महीने से इस सेवा पर काम चल रहा था। 7 अक्टूबर से विधिवत रूप से इस नीति की घोषणा की गई। इस प्रकार प्रमोशन के लिये यदि कोई भी ट्रेन का उपयोग करना चाहता है तो उसे इस के लिये नियुक्त नोडल एजेंसी आईआरसीटीसी का संपर्क करना पड़ेगा। किसी भी व्यक्ति या संस्था से इस बारे में पेशकश मिलने पर संबंधित जोनल रेलवे को संबंधित ट्रेन की संभावना के बारे में पूछा जायेगा और फिर प्रस्ताव को हरी झंडी प्रदान की जायेगी।