अरविंद केजरीवाल पर लोकसभा चुनाव टिकट बेचने का सनसनीखेज आरोप, बचाव में उतरे बलबीर सिंह जाखड़


आप के दिल्ली-पश्चिम के उम्मीदवार बलबीर सिंह जाखड़ के बेटे उदय जाखड़ ने केजरीवाल पर छह करोड़ रूपये में टिकट बेचने का आरोप लगाया

बलबीर सिंह ने आरोपों को नकारा, बेटे से चुनाव संबंधी कोई बात नहीं, पत्नी को तलाक के बाद से उदय नानी के यहां रहता है

आम आदमी पार्टी के सर्वेसर्वा और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर लोकसभा चुनाव टिकट बेचने का सनसनीखेज आरोप लगाया गया है। दिल्ली-पश्चिम लोकसभा सीट से आम आदमी पार्टी की ओर से बलबीर सिंह जाखड़ चुनाव मैदान में हैं। बलबीर जाखड़ के ही पुत्र उदय जाखड़ ने सनसनीखेज बयान देते हुए आरोप लगाया है कि उनके पिता ने अरविंद केजरीवाल को टिकट के एवज में छह करोड़ रुपये चुकाये हैँ।

उदय जाखड़ ने मीडिया के सामने अपने बयान में कहा है कि उनके पिता बलबीर सिंह जाखड़ कभी भी आम आदमी पार्टी या अन्ना हजारे के आंदोलन का हिस्सा नहीं थे। उन्होंने तीन महीने पहले जनवरी 2019 में राजनीति में कदम रखा। उदय ने कहा कि उनके पिता ने उनसे एक दिन चर्चा के दौरान कहा था कि आम आदमी पार्टी का लोकसभा का टिकट उन्हें मिल रहा है और इसके एवज में उन्हें छह करोड़ रुपये चुकाने हैं जो वे सीधे अरविंद केजरीवाल और गोपाल राय को देंगे। ये राशि अरविंद केजरीवान को दी गई और उनके पिता को दिल्ली-पश्चिम से उम्मीदवार बनाया गया।

उदय जाखड़ ने कहा कि अपने पिता पर उनकी शिक्षा पर पर्याप्त खर्च न करने और 1984 के सिक्ख दंगों से जुड़े नेताओं की जमानत व कोर्ट कार्रवाई पर खर्च करने तक राजी होने का आरोप लगाया। उदय ने यहां तक कहा कि उनके इस बयान के बाद उनके पिता और घरवालों का उनके प्रति क्या रवैया रहेगा उसे लेकर वे स्पष्ट नहीं हैं। लेकिन एक जागरूक नागरिक होने के नाते उन्हें यह हकीकत देश के सामने लाना उचित समझा।

देखें उदय जाखड़ी का वीडियोः

 

बलबीर सिंह जाखड़ ने आरोपों को नकरा

उधर उदय जाखड़ के आरोपों के विषय में उनके पिता व दिल्ली-पश्चिम से आप उम्मीदवार बलबीर सिंह जाखड़ ने कहा कि मैं आरोपों की निंदा करता हूं। मैंने अपने बेटे के साथ अपनी उम्मीदवारी के बारे में कभी चर्चा नहीं की। मैं उनसे बहुत कम ही बोलता हूं।

बलबीर जाखड़ ने कहा कि वह अपने जन्म के समय से अपनी नानी के घर पर रहता है और मैंने 2009 में अपनी पत्नी को तलाक दे दिया। वह केवल 6-7 महीने ही मेरे साथ रही। तलाक के बाद बेटे की कस्टडी मेरी पत्नी को ही दे दी गई थी।