ShavingStereotype को बदलकर बार्बर गर्ल्स ने पाई सफलता, सचिन ने भी यहां से शेव कराई


(Photo Credit : rediff.com)

भारत के एक छोटे से गांव बनवारी टोला की दो लड़कियों नेहा और ज्योति ने नियत‌ि को चुनौती दी और सब कुछ हांसिल कर लिया। लेकिन अस्तित्व की इस लड़ाई में, उन्होंने महसूस नहीं किया कि उनके कार्यों का समाज पर दूरगामी और गहरा प्रभाव पड़ेगा। मिल‌िए भारत की नाई की दुकान वाली लड़कियों और बनवारी टोला गांव से, जहां वे समाज में चल रहे लिंग भेद की रूढ़ीयों को तोड़ रहे हैं और अपनी पीढ़ी के पुरुषों को प्रेरित कर रहे हैं- उनकी दाड़ी बनाकर।

YouTube पर उपरोक्त व्यवधान का एक वीडियो छा रहा है। Shavingsteriotype हैशटैग से यह सोशल मीडिया पर भी तेजी से वायरल हो रहा है। YouTube पर, इसे एक महीने में 1 करोड़ 64 लाख बार देखा जा चुका है ‍‍(वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करें)। गौरतलब है कि गोरखपुर (उत्तर प्रदेश) के बनवारी टोला गाँव की नेहा और ज्योति नारायण नाम की दो किशोरीयां जनवरी 2019 में तब चर्चा में आई थी, जब उनकी संघर्ष कथा एक अखबार में प्रकाशित हुई थी।

नेहा ने कहा कि अब तक हमारी दुकान पर दूर-दूर से लोग पहुंच रहे हैं। स्थिति ऐसी है कि हमें प्रतीक्षा सूची बनानी पड़ती है। गाँव में लकड़ी के तख्तों से बनी दुकान आज आधुनिक सैलून का रूप ले चुकी है। जिलेट के अलावा प्रशासन ने भी सहयोग किया और SID‍B ने भी आर्थिक सहायता प्रदान की। भारत रत्न सचिन तेंदुलकर की शेविंग करते हुए एक बड़ी फोटो नेहा-ज्योति बार्बर शॉप में लगाई गई है, जो लोगों को आश्चर्यचकित करती है।