कीर्तिमान बना रहे पुत्र को पर्वतारोही बनाने के लिए परिवार ने जमीन गिरवी रखी थी


(Photo Credit : regenorthosport.in)

तेलंगाना के विकाराबाग जिले में तिरुपति रेड्डी ने दुनिया के सभी सात पर्वतीय शिखरों को फतेह करने के लिए एक मजबूत इच्छा शक्ति बनाई है। उन्होंने दुनिया का सबसे ऊंचा पर्वत माउंट एवरेस्ट, माउंट किलिमंजारो और ऑस्ट्रेलिया के माउंट कोस्युस्को को फतेह कर लिया है। वे माउंट एवरेस्ट को पार करने वाले सबसे कम उम्र के पर्वतारोही भी हैं। तिरुपति रेड्डी ने 8 अप्रैल को अपना अभियान शुरू किया और 28 मई को इसे पूरा किया।

हालांकि, किसान परिवार से आने वाले रेड्डी का परिवार आर्थिक रूप से ठीक नहीं था, इसके बावजूद उन्होंने प्रशिक्षण के लिए पांच लाख रुपये इकट्ठा करने के लिए अपनी जमीन गिरवी रख दी। रेड्डी ने समाचार एजेंसी को बताया कि मैं एक गरीब परिवार से आया हूं, लेकिन मेरे परिवार ने हमेशा मेरा समर्थन किया है। हमारे पास केवल 1 एकड़ जमीन है लेकिन मेरे सपने को पूरा करने के लिए घर के लोगों ने पांच लाख रुपये में जमीन गिरवी रख दी थी।

रेड्डी अब दुनिया के अन्य चार शिखरों को फतेह करना चाहते हैं। वह मल्ली मस्तान बाबू से प्रेरित है। 40 साल के मल्ली मस्तान की 2015 में मौत हो गई। मल्ली मस्तान ने मात्र 172 दिनों में 7 महाद्वीपों में सबसे ऊंचे शिखरों को फतेह करके अनोखा की‌र्तिमान स्थापित किया था। इतना ही नहीं, वह अंटार्कटिका के सर्वोच्च पर्वत और माउंट विंसन मैसिफ़ फतेह करने वाले वे पहले भारतीय पर्वतारोही भी हैं।