ट्रेलर लांच में रणवीर ने अक्षय-अजय को कराया इंतजार, आते ही पैरों में गिरकर मांगी माफी


(PC : EMS)

मुंबई (ईएमएस)। रोहित शेट्टी के कॉप यूनिवर्स में तीसरी फिल्म ‘सूर्यवंशी’ का ट्रेलर रिलीज हो गया है। इस कॉप ड्रामा में खिलाड़ी अक्षय कुमार सुपर कॉप में रोल में नजर आ रहे हैं। 4 मिनट से ज्यादा लंबे इस ट्रेलर को दर्शकों का बेहतरीन रिस्पॉन्स मिला है। फिल्म के ट्रेलर लॉन्च के दौरान इस फ्रेंचाइजी की पहली दो फिल्मों के सुपरस्टार रणवीर सिंह और अजय देवगन भी पहुंचे थे। हालांकि ‘सूर्यवंशी ट्रेलर’ लॉन्‍च इवेंट में पहुंचने में रणवीर को देर हो गई। जबकि अक्षय, अजय, रोहित और कारण जौहर उनका इंतजार करते रहे। ऐसे में जब वह इवेंट पर पहुंचे तो उन्होंने आते ही सबके पैर छूकर माफी मांगी।

इवेंट में लेट पहुंचे रणवीर सिंह की अक्षय कुमार ने खिंचाई की। इन सभी सितारों का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस वीडियो में अक्षय कहते हैं कि ये पहला जूनियर एक्टर है, जो चार-चार सीनियरों को 40 मिनट तक इंतजार कराता है। वीडियो में रणवीर कान पकड़कर उठक बैठक करते हुए नजर आए। वही रणवीर ने अपनी सफाई में कहा ‘मैं बहुत दूर से आता हूं सर, मेट्रो का काम चल रहा है, एक ही लाइन चालू थी’। वीडियो में रोहित शेट्टी, कटरीना कैफ और करण जौहर भी काफी मस्ती करते नजर आए। इस फिल्म के ट्रेलर को देख कर पता चलता है कि फिल्म में जबरदस्त एक्शन होगा। फिल्म में अक्षय और कटरीना मुख्य भूमिकाओं में दिखाई देंगे। दोनों ने कई साल बाद साथ में काम किया है। फिल्म में अजय देवगन और रणवीर सिंह का भी स्पेशल अपीयरेंस है। फिल्म 24 मार्च को बड़े परदे पर प्रदर्शित की जाएगी।

‘सूर्यवंशी’ : 1993 में हुए मुंबई बम धमाकों पर बेस्ड

ट्रेलर से पता चला कि ‘सूर्यवंशी’ की कहानी 1993 में हुए मुंबई बम धमाकों पर बेस्ड है। इस बम धमाके में जो मुंबई पर बीता और पीड़ितों ने जो सहा यह दर्द बॉलिवुड की फिल्मों में कई बार, अलग-अलग तरह से नजर आया। अब तक मुंबई बम धमाकों पर बनीं फिल्मों में सबसे ऊपर है डायरेक्टर मणिरत्नम की फिल्म ‘बॉम्बे’, यह फिल्म साल 1995 में बनाई गई थी। फिल्म को हिंदी के अलावा तमिल और तेलुगू में भी डब किया गया था।

‘बॉम्बे’ ने बॉक्स ऑफिस पर अच्छी कमाई की थी। बॉम्बे’ को जहां दर्शकों का जमकर प्यार मिला, वहीं इस फिल्म को 10 से भी ज्यादा नैशनल लेवल के अवॉर्ड भी मिले थे। मणिरत्नम की ‘बॉम्बे’ के बाद डायरेक्टर अनुराग कश्यप की फिल्म ‘ब्लैक फ्राइडे’ ने मुंबई के 1993 के बम धमाकों की कहानी को एक बार फिर से सामने लाया। 1993 के बॉम्बे बम धमाकों के बारे में हुसैन जैदी की एक किताब ‘ब्लैक फ्राइडे: द ट्रू स्टोरी ऑफ द बॉम्बे बम ब्लास्ट’ पर आधारित इस फिल्म में उन घटनाओं का जिक्र किया गया, जो धमाकों और उसके बाद की पुलिस जांच की वजह बनीं। केके मेनन, आदित्य श्रीवास्तव, पवन मल्होत्रा, किशोर कदम और जाकिर हुसैन जैसे कलाकारों की अहम भूमिका वाली यह फिल्म विवादों में फंस गई और यह कई सालों के बाद रिलीज हो पाई।’

ब्लैक फ्राइडे’ का प्रीमियर 2004 के लोकार्नो इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में हुआ था और इसे उसी साल भारत में रिलीज किया जाना था, लेकिन 1993 के बम धमाकों के एक समूह द्वारा फिल्म की रिलीज को चुनौती देने के लिए दायर याचिका के बाद बॉम्बे हाई कोर्ट ने एक स्टे जारी किया। जब तक मामले पर फैसला नहीं सुनाया जाता, तब तक उसे प्रदर्शित नहीं किया जा सकता था। 9 फरवरी, 2007 को फैसला सुनाए जाने के बाद भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने इसके प्रदर्शन की अनुमति दी और साल उसी साल यह फिल्म रिलीज हुई।

फिल्म को आलोचनात्मक प्रशंसा मिली, इसने लॉस एंजिल्स के भारतीय फिल्म महोत्सव में ग्रैंड ज्यूरी पुरस्कार जीता और लोकार्नो इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में गोल्डन लेपर्ड पुरस्कार के लिए नामांकित किया गया।बॉलिवुड ने कई बार 1993 ब्लास्ट की घटना और उसके दर्द को कहानी के माध्यम से बड़े पर्दे पर उतार कर आम जनता तक पहुंचाने की कोशिश की है। धमाकों पर बेस्ड फिल्मों ने दर्शकों को सोचने और रोने पर मजबूर भी किया है। कई फिल्मकारों ने यह भी दिखाया है कि कैसे मुंबई के लोग आतंक से लड़कर दोबारा खड़े हो जाते हैं और नई उमंग के साथ अपनी जिंदगी जीते हैं।