राजकोट में नए सत्र के पहले ही दिन अग्नी विभाग ने कई स्कूलों को बंद करने के आदेश दिए


(Photo Credit : rightinfrontofme.wordpress.com)

सूरत में हुए अग्नीकांड के बाद तंत्र सक्रिय हो गया है। गुजरात में चल रहे निजी ट्यूशन कक्षाओं को बंद करने के आदेश दिए गए थे। इसके अलावा, स्कूलों और ट्यूशन कक्षाओं को जल्द से जल्द अग्नि सुरक्षा उपकरणों की व्यवस्था करने के लिए नोटिस दिया गया था। परसो जब नया शैक्षणिक सत्र शुरू हुआ, तो राजकोट अग्निशमन विभाग ने राजकोट में संचालित निजी स्कूलों में जाँच शुरू की।

इस चेकिंग के दौरान यह बात सामने आई कि राजकोट के 500 स्कूलों में से किसी में भी अग्निशमन विभाग की एनओसी नहीं है। कुछ स्कूलों में आग के उपकरण तो थे, लेकिन स्कूलों में एक अवैध शेड बनाया गया था। स्कूलों को तुरंत बंद करने का आदेश दिया गया था।

फायर अधिकारियों ने मीडिया से बातचीत की और कहा क‌ि जिन स्कूलों में शेड बना दिया गया है, उन स्कूलों को बंद कर दिया है। इस संबंध में टाउन प्लानिंग ऑफिसर के साथ बैठक करके, इन सभी गैरकानूनी शेड्स को हटा दिया जाएगा।

गौरतलब है कि जिस तरह सूरत में अग्नीकांड हुआ था। इसके बाद तंत्र अब जाग गया है ताकि कोई और अग्नीकांड ना हो। बच्चों की सुरक्षा के साथ स्कूलों में अग्नि सुरक्षा उपकरण और फायर एनओसी अनिवार्य कर दिया गया है। प्रणाली की इस कड़ी कार्यवाही के कारण, कई स्कूलों और ट्यूशन कक्षाओं के प्रबंधकों द्वारा आग के लिए एनओसी लेने के लिए आवेदन तथा कक्षा के अंदर अग्नि सुरक्षा उपकरणों की सुविधा की गई है।