NSG : रुस भी हमारे साथ, पुतिन चीन से करेंगे बात


नई दिल्ली। परमाणु आपूर्तिकर्त्ता समूह ( NSG) में भारत की सदस्यता को लेकर रूस ने भी समर्थन देने का भरोसा दिया है। रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन ने कहा कि वे इस मसले को सियोल में होने वाली बैठक में उठाएंगे। बता देें कि सोमवार से NSG सदस्यों की बैठक होने वाली है। रूस भारत की NSG में एंट्री को लेकर काफी सकारात्मक है। पुतिन ने कहा कि वे ईमानदारी से भारत की सदस्यता को लेकर NSG की बैठक में चर्चा करेंगे।

उन्होंने कहा कि वे चीन से भी बातचीत करेंगे कि आखिर वो किस आधार पर भारत की सदस्यता का विरोध कर रहे हैं। हालांकि पुतिन ने कहा कि नियमों के मुताबिक ही आखिरी फैसला लिया जाएगा। साथ ही पुतिन ने कहा कि जितने नए देशों ने सदस्यता के लिए अपील की है कि उनके बारे में 48 सदस्यों NSG टीम बैठक में विचार करेगी। सेंट पीटर्सबर्ग अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक मंच पर खास बातचीत के दौरान रूसी राष्ट्रपति ने भारत को समर्थन का संकेत देते हुए कहा कि वो भारत को परमाणु संबंधी मसलों पर सहयोग के लिए तैयार है लेकिन उसे अंतर्राष्ट्रीय कानून के दायरे में रहकर ही अमलीजामा पहनाया जा सकेगा।

उन्होंने कहा कि परमाणु सुरक्षा को लेकर भारत भी हमेशा से सक्रिय रहा है। वहीं भारत और अमेरिका के बीच बढ़ती दोस्ती पर उन्होंने कहा कि इससे भारत और रूस के रिश्ते पर कोई असर नहीं पड़ने वाला है। दोनों के रिश्ते बहुत पुराने हैं और एक-दूसरे को बेहद करीब से जानते हैं। दरअसल NSG में भारत की सदस्यता की राह में रोड़ा अटका रहे चीन को उसी की भाषा में जवाब देने के लिए भारत रणनीति में जुट गया है। पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन से फोन पर बात की थी। पुतिन ने भी मोदी को समर्थन का भरोसा दिया था।