अब लगेगा ममता बैनर्जी के घर पर ‘जय श्रीराम’ लिखे पोस्ट कार्ड्स का अंबार!


(Photo Credit : youtube.com)

‘जय श्रीराम’ अभियान के तोड़ के रूप में ममता बैनर्जी बनायेंगी ‘जय हिंद वाहिनी’

लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने जबरदस्त जीत हासिल करके प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अगुवाई में केंद्र में एनडीए की सरकार बना ली है। चुनाव में कई विपक्षी दलों को भारी राजनीतिक नुकसान उठाना पड़ा है। पश्चिम बंगाल में तृणमुल कांग्रेस के गढ़ में भी भाजपा ने अपने पैर पसार लिये हैं। ममता बैनर्जी की पार्टी के नेता जिसमें विधायक से लेकर स्थानीय निकाय स्तर तक के कार्यकर्ता भी हैं, वे भाजपा में शामिल हो रहे हैं। भाजपा की बढ़ती इस पैंठ का ही नतीजा है कि ममता बैनर्जी को अपने राज्य में जगह-जगह भाजपा के कार्यकर्ताओं और समर्थकों के एक या दूसरे प्रकार से विरोध का सामना करना पड़ रहा है।

सोशल मीडिया पर गुरुवार की घटना एक वीडियो वायरल है जिसमें देखा जा सकता है कि ममता बैनर्जी जिस जगह से गुजर रही थीं वहां इकठ्ठा लोग ‘जय श्रीराम’ का नारा लगाते हैं। इस नारे से गुस्सा ममता दीदी अपनी गाड़ी से उतरती हैं और जिस दिशा से आवाज आई उस ओर इशारा करते हुए लोगों को झाड़ लगाती हैं। जब वे दोबार गाड़ी में बैठ जाती हैं तो लोग फिर से ‘जय श्रीराम’ का नारा लगाते हैं। इस वाकये में शामिल कुछ लोगों के खिलाफ तो पुलिस ने कार्रवाई भी की हुई बताई गई है।

 

इस नारे पर जिस प्रकार का प्रतिभाव ममता बैनर्जी की ओर से आ रहा है, उसी को लगता है कि भाजपा ने परोक्ष रूप से अपना प्रचार का हथियार बनाने का निर्णय ले लिया है। इसका संकेत इसी बात से मिल रहा है कि सोशल मीडिया पर पोस्ट कार्ड शेयर किये जा रहे हैं जिस पर पते के स्थान पर कथित रूप से ममता बैनर्जी का कोई पता लिखा हुआ है। संदेश के स्थान पर ‘जय श्रीराम’ लिखा हुआ है। सोशल मीडिया पर इस बात को बढ़ावा देते हुए संदेश शेयर किये जा रहे हैं कि लोग डाकघर से पोस्टकार्ड लाएं और उस पर ‘जय श्रीराम’ लिखकर ममता बैनर्जी के पते पर भेजें और इतनी तादाद में भेजें ही उनके यहां इस प्रकार के पोस्टकार्ड का अंबार लग जाए।

 

जानकारों का कहना है कि ममता बैनर्जी उनके विरोधियों के जाल में फंस रही हैं। कोई यदि ‘जय श्रीराम’ का नारा लगाता है तो ममता बैनर्जी को इस प्रकार बर्ताव नहीं करना चाहिये जिस प्रकार वे कर रही हैं। इससे उनके विरोधियों को बढ़ावा ही मिल रहा है।

हालांकि सूत्रों से पता चला है कि मुख्यमंत्री ममता बैनर्जी ने शनिवार को अपने कालीघाट स्थित निवास स्थान पर पार्टी की कोर कमिट की बैठक की जिसमें भविष्य की रणनीति तय की गई। कहा जा रहा है कि इसमें ‘जय श्रीराम’ रूपी अभियान के तोड़ के रूप में वे ‘जय हिंद वाहिनी’ संगठन बनाने का निर्णय लिया गया है।

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव 2021 में होना है। देखना है तब तक ममता की तृणमूल कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी के बीच राजनीतिक युद्ध क्या रूप लेता है।