मोदी के शपथ ग्रहण समारोह से पाकिस्तान का पत्ता साफ


बिम्सटेक देशों के राष्ट्राध्यक्ष होंगे शपथ ग्रहण में शामिल, पाकिस्तान को न्योता नहीं

नई दिल्ली (ईएमएस)। नरेंद्र मोदी 30 मई को शाम 7:00 बजे प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 30 मई को राष्ट्रपति भवन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाएंगे। यह उनका दूसरा कार्यकाल होगा।

इस कार्यक्रम में बंगाल की खाड़ी से जुड़े बिम्सटेक देशों के राष्ट्राध्यक्षों को आमंत्रित किया गया है। हालांकि, पाकिस्तान को न्योता नहीं दिया गया है। पुलवामा हमले के बाद से भारत पाकिस्तान के बीच तनाव बना हुआ है। मोदी के पहले कार्यकाल के शपथ ग्रहण समारोह में पाकिस्तान के तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ शामिल हुए थे।

बिम्सटेक में भारत के अलावा म्यांमार, श्रीलंका, थाईलैंड, नेपाल, बांग्लादेश और भूटान शामिल हैं। इसके अलावा भारत ने किर्गिस्तान के राष्ट्रपति और मॉरीशस के प्रधानमंत्री को भी समारोह में आमंत्रित किया है।

बिम्सटेक के देशों पर नजर दौड़ाएं तो साफ प्रतीत होता है कि इन देशों से गहरे रिश्ते चीन को काफी खल सकते हैं। चीन के खिलाफ भारत की सामरिक रणनीति में ये देश भारत की ताकत को कई गुना मजबूती प्रदान करेंगे इसमें कोई दो राय नहीं है। शायद इसीलिये चीन भी इन्हीं देशों को धनबल के बल पर अपने पक्ष में करने की कोशिश कर रहा है। भारत और चीन के बीच किसी सैन्य-संघर्ष की स्थिति में यदि ये देश भारत के पक्ष में रहते हैं तो चीन को भारत पर समुद्री मार्ग से किसी प्रकार की चुनौती देना काफी मुश्किल हो जायेगा।