जानिये ‘मदर्स डे’ की शुरुआत कैसे हुई तथा किन देशों में कब मनाया जाता है ‘मदर्स डे’


(Photo Credit : amazingwomeninhistory.com)
‘ये वही मैं और ये वही  तुम, हम दोनो एक साथ इस फुटपाथ से उठे थे … आज मैं कहां हुं और तुम कहां, आज मेरी बिल्डिंग है, प्रोपर्टी है, बैंक बैलेंस हैं, बंगला है, गाड़ी है, क्या है तुम्हारे पास?

आपने फिल्म द‌िवार का यह डायलॉग सुना होगा और यह बात सच भी है कि जिसके पास भी मां होती है, उसके पास दुनिया की सारी संपत्ति होती है। क्योंकि एक बार जब मां अपनी संतान पर प्यार से हाथ फेरती है, तो उसकी सभी समस्याओं को गायब कर देती है। दुनिया के सभी रिश्तों में सर्वोच्च स्थान मां का है। ऐसे तो अधिकांश देशों में अलग-अलग दिनों में मदर्स डे मनाया जाता है। भारत में मई के दूसरे रविवार को मदर्स डे मनाया जाता है। जानिए कैसे, कहां और किसने करी मदर्स डे की शुरुआत।

अमेरिका में, पहली बार मदर्स डे मनाने की घोषणा की गई

अमेरिका में पहली बार जूलिया वार्ड होवे द्वारा मदर्स डे मनाने की घोषणा की गई थी। 1870 में हॉवे द्वारा लिखित ‘मदर्स डे प्रोक्लेमेशन’ में अमेरिकी सिविल वॉर में मार काट के लिए शांतिवादी प्रतिक्रिया लिखी है। यह उद्घोषणा होवे का नारीवादी विश्वास था, जिसमें महिलाओं या माताओं को राजनैतिक स्तर पर अपने समाज को विकसित करने और आकार देने की अनुमति है। 1912 में, ऐन्ना जार्विस ने ‘सेकेंड संडे इन मई’ में मदर्स डे ट्रेडमार्क बनाया और मदर्स डे इंटरनेशनल एसोसिएशन की स्थापना की।

पहला उत्सव

अमेरिका के वेस्ट वर्जीनिया राज्य के ग्राफ्टन शहर में पहली बार मदर्स डे मनाया गया। मदर्स डे मनाने का मुख्य उद्देश्य अपनी मां के विशेष महत्व और उनके रिश्ते के प्रति सम्मान दिखाना था। यह दिन दुनिया के अलग-अलग कोने में अलग-अलग दिनों पर मनाया जाता है। इस दिन कई देशों में विशेष कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते हैं।

मां के प्रति सम्मान दिखाने के लिए यूरोप और ब्रिटेन में कई परंपराएं प्रचलित हैं। इसके तहत एक रविवार को मातृत्व और माताओं को सम्मानित किया जाता था, जिसे ‘मदरिंग संडे’ कहा जाता था।  ‘मदरिंग संडे’ फेस्टिवल लितुर्गिकल कैलेंडर का एक हिस्सा है। कैथोलिक कैलेंडर के अनुसार, चौथे रविवार के दिन ‘वर्जिन मैरी’ और ‘मदर चर्च’ के सम्मान में मनाया जाता है।

जश्न की तारीखें बदलती रहीं

यदि आप इंटरनेट पर मातृ दिवस की तारीख को खोजने के लिए जाते हैं, तो पता चलेगा कि मातृ दिवस का उत्सव ब्रिटिश कैलेंडर के चौथे रविवार और मई के दूसरे रविवार को मनाया जाता है। समय के साथ विभिन्न देशों में मातृ दिवस मनाने की तारीख बदलती रही हैं। कई देशों में, लोकप्रिय धर्मों के देवी-देवताओं का जन्म दिवस या पुण्यतिथी उत्सव के रूप में मनाया जाता है, जैसे कि कैथोलिक देशों में वर्जिन मैरी डे के दिन को मदर्स डे के रूप में मनाया जाता है। कई देशों में 8 मार्च ‘महिला दिवस’ को ही मदर्स डे के रूप में मनाया जाता है। अधिकांश राज्य में मदर्स डे मनाने की शुरुआत 1914 से हुई और अमेरिकी राष्ट्रपति वुडरो विल्सन ने 1914 में मदर्स डे को आधिकारिक मान्यता दे दी। तो आज 105 वाँ मातृ दिवस है, यह कहा जा सकता है।

विभिन्न देशों में मातृ दिवस समारोह

बोलीविया:  बोलीविया दक्षिण अमेरिका का एक देश है, जहाँ मदर्स डे 27 मई को मनाया जाता है। मदर्स डे यहाँ कोरनिल्ला युद्ध की याद में मनाया जाता है। 27 मई, 1812 के दिन कोचाबाम्बा, बोलीविया में एक युद्ध हुआ था, जिसमें कई महिलाओं को स्पेनिश सेना ने मार डाला। सभी महिलाएं एक सैनिक होने के साथ एक मां भी थीं। 8 नवंबर, 1927 को एक कानून बनाया गया कि 27 मई को मातृ दिवस के रूप में मनाया जाएगा।

चीन: चीन  में मदर्स डे के अवसर पर गुलनार का फूल बच्चे अपनी माँ को देते हैं। यह दिन 1997 में गरीब माँ की मदद करने के लिए निर्धारित किया गया था। यह दिन विशेष रूप से पश्चिमी चीन में रहने वाली ग्रामीण माताओं के लिए मनाया जाता है।

जापान: जापान में  मदर्स डे को शोवा काल के दौरान सम्राट अकिहितो की माता महारानी कोजुन के जन्मदिवस के रूप में मनाया जाता है। चीन की तरह जापान में भी बच्चे अपनी माँ को फूल देते हैं।