‘विजय यात्रा’ पर रोक के गुस्साए गिरिराज सिंह, कहा ममता सरकार की उलटी गिनती शुरु


(Photo: IANS/PIB)

कोलकाता। बंगाल में सत्तारूढ़ टीएमसी और बीजेपी के बीच तल्खी लगातार बढ़ती जा रही है। ममता बैनर्जी द्वारा राज्य में भाजपा द्वारा विजय यात्रा निकालने पर रोक लगा दिये जाने के बाद भाजपाई नेता गुस्से में हैं। केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने ममता पर हल्ला बोल दिया है।

गिरिराज सिंह ने मीडिया को दिये बयान में कहा है कि जिस तरह से ममता बैनर्जी सरकार चला रही हैं, ऐसा लगता है कि उनको संविधान में भरोसा ही नहीं है। वे प्रधानमंत्री को प्रधानमंत्री मानती ही नहीं। वे सिस्टम के साथ चलना नहीं चाहती। लोगों ने फैसला कर लिया है कि उनकी सरकार की उलटी गिनती शुरू हो चुकी है। लोग विकास चाहते हैं।

सिंह ने कहा कि वे किम जोन्ग उन की भूमिका निभा रही हैं, जो भी उनके खिलाफ आवाज बूलंद करता है उसका मुंह बंद कर दिया जाता है, किसी को ‘विजय यात्रा’ निकालने की इजाजत नहीं है। जनता उनकी उलटी गंगा का जुलूस निकाल देगी, उनके श्राद्ध का जुलूस निकाल देगी।

नीति आयोग की बैठक में जाने से इंकार किया

बता दें कि टीएमसी और भाजपा के बीच की तल्खी के बीच टीएमसी प्रमुख और राज्य की सीएम ममता बनर्जी ने पीएम नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखकर कहा है कि वह नीति आयोग के बैठक में शामिल नहीं होंगी।

गौरतलब है कि इसके पूर्व ममता ने अंतिम समय पर पीएम मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने से मना कर दिया था। पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव के शुरू होने के साथ ही बीजेपी और टीएमसी के बीच तल्खी देखने को मिली।

‘जय श्रीराम’ लिखे पोस्टरों की भरमार

चुनावों के बाद मिली भाजपा को बंफर जीत के बाद यह तल्खी और बढ़ी। प्रदेश में लगातार हिंसा को लेकर जहां दोनों पार्टियों ने एक-दूसरे पर आरोप लगाया, वहीं ‘जय श्रीराम’ और ‘जय बांग्ला’ जैसे नारों पर भी तकरार दिखा। इस बीच बीजेपी की तरफ से ममता बनर्जी को जय श्रीराम लिखे हजारों पोस्टकार्ड भी भेज दिए हैं।

उधर, ममता ने भी अब केंद्र के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। शुक्रवार को ममता बनर्जी ने नीति पीएम मोदी को चिट्ठी लिखकर कहा कि वह नीति आयोग की बैठक में शामिल नहीं होंगी। चिट्ठी में ममता ने लिखा, नीति आयोग के पास कोई वित्तीय अधिकार और राज्य की योजनाओं को समर्थन देने का अधिकार नहीं है, इस कारण मेरा बैठक में आना बेकार है।’

पत्र में ममता ने लिखा था, नए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीजी आपको बधाई! ‘संवैधानिक आमंत्रण’ पर मैंने शपथ ग्रहण में शामिल होने का फैसला किया था। हालांकि, पिछले कुछ घंटे में मीडिया रिपोर्ट में मैंने देखा कि बीजेपी दावा कर रही है कि बंगाल में 54 राजनीतिक हत्याएं हुई हैं। यह पूरी तरह से झूठ है। बंगाल में कोई राजनीतिक हत्या नहीं हुई है। संभव है कि यह हत्या पुरानी रंजिश, पारिवारिक झगड़े या फिर किसी और रंजिश में हुई हो। इसमें राजनीति का कोई संबंध नहीं है और न ही हमारे रिकॉर्ड में ऐसा कुछ है।’

(ईएमएस के इनपुट के साथ)