सुषमा स्वराज के नक्शे-कदम पर नवनियुक्त विदेश मंत्री एस. जयशंकर


(PC : indiatvnews.com)

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की पिछली सरकार में कई केंद्रीय व राज्य मंत्रियों के कामकाज को लोगों ने सराहा था। इनमें विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को पहली पंक्ति में रखा जा सकता है। विदेशी मामलों को संभालने के अलावा सुषमा स्वराज देश के आम नागरिकों की विजा, पासपोर्ट से लेकर विदेश में आने वाली किसी भी प्रकार की दिक्कतों को दूर करने का भरसक और त्वरित प्रयास करती थीं। सुषमा स्वराज के उक्त कार्यकाल के दौरान ऐसे कई किस्से सामने आये जब मंत्रीजी की मदद से विदेशी भूमि पर संकट में फंसे भारतीयों को मदद मिली और वे उन्हें धन्यवाद देते नहीं थके। भारतीय ही क्यों सुषमा स्वराज ने तो कई पाकिस्तानी नागरिकों तक को चिकित्सकीय मामलों में सहायता की।

अब नरेन्द्र मोदी की नई सरकार में सुषमा स्वराज किसी पद पर तो नहीं हैं, लेकिन उनकी जगह विदेश मंत्री के रूप में डॉ. एस. जयशंकर को जिम्मेदारी दी गई है। पूर्व ब्यूरोक्रेट जयशंकर विदेशी मामलों के जानकार हैं और उनके अनुभव का लाभ लेने के लिये ही सरकार में उन्हें शामिल किया गया है। लेकिन पदारुढ़ होते ही जयशंकर ने संकेत दे दिये हैं कि वे आम नागरिकों से सरोकार रखने वाले मामलों पर भी उसी गंभीरता से काम करेंगे जैसे पूर्व में सुषमा स्वराज करती थीं।

इसी का नमूना शनिवार को देखने को मिला जब रिंकी नामक महिला ने अपने ट्वीटर एकाऊंट से विदेशी मंत्री को टैग करते हुए अपनी समस्या बयान की। उन्होंने कहा कि उनकी दो वर्षीय बेटी है जो अमेरिका में है और वे यहां भारत में। पिछले छः महीनों से वे उनकी बेटी को भारत लाने के लिये जद्दोजहद कर रही हैं। उनकी मदद की जाए।

इस समस्या से अवगत होते ही सुषमा स्वराज वाली स्टाईल में जयशंकर ने उत्तर दिया और उक्त महिला से अमेरिका में भारतीय उच्चायुक्त हर्ष श्रींगला से संपर्क करने को कहा।

 

जयशंकर के इस त्वरित प्रत्युत्तर के बाद सोशल मीडिया पर उनकी खूब तारीफ हो रही है। एक यूजर ने कहा कि जैसे सुषमा जी हर ट्वीट का जवाब देती थीं व एक्शन लेती थी, वही उम्मीद हम आपसे भी रखते हैं, कि उनकी कमी महसूस नहीं होगी।

वाकई सुषमाजी ने देश के नागरिकों के दिलों में अपनी अलग जगह बनाई है और नवनियुक्त विदेश मंत्री भी उन्हीं के नक्शेकदम पर चलेंगे ऐसी लोग कामना कर रहे हैं।