‘मैं उल्लू हूं, लेकिन इतना बड़ा उल्लू नहीं हूं!‘ : मणिशंकर एय्यर


(PC : newsstate.com)

लोकसभा चुनाव का आखिरी चरण अब शेष है। इस पूरे चुनाव में कांग्रेस के एक नेता ऐसे हैं जो किसी भी प्रकार का बयान देने से दूर रहे। और वह नेता हैं मणिशंकर एय्यर। पूरे चुनाव प्रचार के दौरान वे कहीं कैमरे पर दिखाई ही नहीं दिये। लेकिन सातवें चरण के आते-आते मीडिया ने उन्हें ढूंढ ही लिया, और जब मणिशंकर एय्यर सामने हों और मीडिया उनसे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के विषय में भूतकाल में बोले गये ’नीच व्यक्ति’ संबंधी बयान के बारे में सवाल न करे यह कैसे हो सकता है।

गता दें कि भूतकाल में मणिशंकर एय्यर ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पहले ‘चायवाला’ और फिर ‘नीच व्यक्ति’ कहकर पुकारा था और दोनों ही शब्दप्रयोग भाजपा के लिये संजीवन बन गये और खासा चुनावी लाभ पहुंचाया। ‘नीच’ वाले बयान के लिये तो मणिशंकर एय्यर को कांग्रेस से कुछ समय के लिये निलंबित भी किया गया। हालांकि पिछले साल उन्हें पुनः पार्टी में शामिल कर लिया गया। लेकिन शायद पार्टी की ओर से सख्त निर्देश होगा कि वे मीडिया में बयानबाजी से दूर रहें।

खैर, अब जब सातवें और आखिरी चरण से पूर्व मीडिया ने उनका सामना हुआ और उनसे वही ‘नीच‘ वाले बयान के विषय में पूछा गया, तो इस बार वे काफी सर्तक दिखे। उन्होंने कहा, कि उन्होंने एक पूरा लेख लिखा है, और उसमें यदि आप केवल एक पंक्ति उठा लें और मुझे कहें कि ‌अब इस एक पंक्ति के विषय में बात करें, तो मैं आपके खेल में फंसने वाला नहीं। उन्होंने कहा, ‘मैं उल्लू हूं, लेकिन इतना बड़ा उल्लू नहीं हूं!’

उन्होंने कहा कि वे इस मसले पर कुछ नहीं बोलेंगे। वे स्वयं मीडिया के शिकार बनें हैं और इससे उन्हें काफी नुकसान हुआ है।

खैर, मीडिया की सुर्खियों के लिये ये उल्लू वाली पंक्ति ही काफी थी, भले इसका कोई राजनीतिक मतलब न हो।